• A
  • A
  • A
तकदीर ने 12 साल तक दी मोहलत, फिंगर प्रिंट ने चंद मिनट में पहुंचा दिया हवालात

नई दिल्ली। कहते हैं अपराधी जब भी कोई अपराध करता है तो उसके कुछ न कुछ निशान जरूर छोड़ जाता है। ऐसा ही कुछ इस अपराधी ने किया होगा। जिसके कारण आज वो सलाखों के पीछे पहुंच गया है।

आरोपी


बीते जनवरी में अपराध शाखा ने एक युवक को हथियार के साथ गिरफ्तार किया था। उसका फिंगर प्रिंट जब लिया गया तो पता चला कि 12 साल पहले कालकाजी में हुई चोरी को अंजाम देने वाला शख्स यही था। उसने भी पुलिस के सामने अपना गुनाह कबूल कर लिया है।


पढ़ें : मुस्लिम लड़की से पति करता था प्यार, मरने से पहले बीवी ने Audio रिकॉर्ड कर खोले खौफनाक 'राज'

डीसीपी चिन्मय बिश्वाल ने बताया कि वर्ष 2006 में कालकाजी में रहने वाले कारोबारी ललित बत्रा के घर में चोरी हुई थी। घर से 30 हजार रुपए नकद के अलावा गहने चोरी हुए थे। इस बाबत मामला दर्ज कर छानबीन की गई। पुलिस को मौके से एक युवक के हाथ का फिंगर प्रिंट मिला, लेकिन उनके पास मौजूद बदमाशों के डाटा से वह मेल नहीं खा रहा था। पुलिस ने इस फिंगर प्रिंट को सुरक्षित करवा दिया। काफी प्रयासों के बावजूद वह आरोपी को नहीं तलाश पाए।

पढ़ें : AAP के जश्न पर भड़के कपिल मिश्रा, पोल खोल बताई CM केजरीवाल के झूठ की पूरी दास्तां...

अपराध शाखा ने पकड़ा
बीते जनवरी में अपराध शाखा ने गाजियाबाद निवासी साबिर को अवैध हथियार के साथ गिरफ्तार किया। पुलिस ने उसका डोजियर तैयार कर रिकॉर्ड के लिए क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो में भेजा। वहां जब कंप्यूटर पर उसका रिकॉर्ड डाला गया तो पता चला कि 12 साल पहले हुई चोरी का आरोपी भी यही साबिर है। वहां से घटना की जानकारी कालकाजी पुलिस को दी गयी।

पढ़ें :
नए दरोगा का नोटों की माला पहना नेता ने किया स्वागत, VIDEO हुआ वायरल

जेल से लाकर किया गिरफ्तार
फिंगर प्रिंट मैच होने के बाद कालका जी पुलिस अदालत की अनुमति से उसे जेल से बाहर लेकर आई और अपने मामले में उसे गिरफ्तार किया। आरोपी ने पुलिस के समक्ष कबूल किया कि कालकाजी में चोरी करने वाला वही था। हालांकि अधिक समय बीत जाने के चलते उसके पास से कोई बरामदगीं नहीं हो सकी।




CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  सहेली

  गैलरी

  टूरिज़्म

  MAJOR CITIES