• A
  • A
  • A
जम्मू कश्मीर में पंचायत चुनाव : राजनीतिक दलों ने कहा माहौल 'चिंताजनक और प्रतिकूल'

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर में अगले महीने प्रस्तावित पंचायत चुनाव के दौरान सुरक्षा के बारे में चिंता प्रकट करते हुए राजनीतिक दलों ने कहा है कि फिलहाल माहौल ‘चिंताजनक’ है और चुनाव कराने के लिए ‘अनुकूल नहीं’ है। बता दें कि 2011 के चुनावों में 16 पंचायत सदस्यों की हत्या कर दी गई थी।

सीएम महबूबा मुफ्ती (साभार आईएएनएस))


दरअसल, राज्य सरकार ने हाल ही में घोषणा की थी कि पंचायत चुनाव 15 फरवरी से कराये जायेंगे तथा चुनाव की तैयारी शुरु हो गयी है। हालांकि, उम्मीदवारों, नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस समेत कई राजनीतिक दल इस घोषणा से चिंता में पड़ गये हैं।


अलगाववादियों का बहिष्कार और हिज्बुल की धमकी
स्थानीय राजनीतिक दलों ने राज्य खासकर कश्मीर घाटी की कानून स्थिति का हवाला दिया है। अलगाववादियों के चुनाव बहिष्कार के आह्वान तथा आतंकवादी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन की धमकी के बाद उसके सुचारु ढंग से संपन्न होने पर आशंका के बादल मंडरा रहे हैं।

सोशल मीडिया पर हिज्बुल आतंकी की धमकी

बता दें कि इसी महीने के प्रारंभ में हिज्बुल के दो आतंकवादियों की कथित बातचीत सोशल मीडिया पर छायी थी। इस बातचीत में हिज्बुल कमांडर रियाज नाइकू ने एक अन्य आतंकवादी समीर टाइगर से कहा था कि वे लोग चुनाव में उतरने वालों को धमकी या हत्या न करें बल्कि उनकी आंखों में तेजाब डाल दें।

उम्मीदवार तैयार लेकिन सुरक्षा पर आशंका

ऑल जम्मू एंड कश्मीर पंचायत कांफ्रेंस के अध्यक्ष और पूर्व पंचायत सदस्य शफीक मीर ने कहा है कि उनकी भूमिका चुनाव लड़ना है और वे उसके लिए तैयार भी हैं, लेकिन सरकार को सुरक्षा स्थिति देखनी होगी। उन्होंने कहा कि सरकार को यह सुनिश्चित करन होगा कि वह लोगों के लिए सुरक्षित माहौल कैसे तैयार करेगी।

2011 के चुनाव में हुई थी 16 लोगों की हत्या

बता दें कि वर्ष 2011 के पिछले पंचायत चुनाव के बाद से राज्य में 16 पंचायत सदस्यों की हत्या कर दी गयी और 20 अन्य घायल भी हुए थे। नेशनल कांफ्रेंस ने कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति चिंताजनक है ऐसे में चुनाव कराना एक और बड़ी भूल न हो जाए जिससे पर्यटन, उद्योग और राज्य की अर्थव्यवस्था पर बुरा असर पड़े।

पढ़ें: अपने इजराइली 'दोस्त' का PM मोदी ने ऐसे किया स्वागत

आगामी पंचायत चुनावों पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जी ए मीर ने कहा है कि पंचायत चुनाव की घोषणा बस छवि चमकाने की कोशिश है क्योंकि राज्य में फिलहाल माहौल चुनाव लायक नहीं है।

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  सहेली

  गैलरी

  टूरिज़्म

  ASSEMBLY ELECTIONS 2018

  MAJOR CITIES