• A
  • A
  • A
देश के दूसरे सबसे बड़े बैंक में 11,500 करोड़ की धोखाधड़ी! शेयर में भारी गिरावट

मुंबई। देश की दूसरी सबसे बड़ी सार्वजनिक बैंकिंग संस्था पंजाब नेशनल बैंक में गलत ट्रांजैक्शन की जानकारी सामने आई है। एक बड़ी अनियमितता सामने आई है। PNB में 11,500 करोड़ रुपए का की अनाधिकृत और धोखाधड़ी पूर्ण लेन-देन उजागर हुआ है।

डिजाइन फोटो।


पंजाब नेशनल बैंक ने अपने कंपनी सेक्रेटरी के माध्यम से स्टॉक एक्सचेंज को बताया है कि PNB के मुंबई की एक शाखा में 1771.7 अरब डॉलर यानि करीब 11,500 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी सामने आई है। बताया जाता है कि इस फ्रॉड का असर कुछ दूसरे बैंकों पर भी देखने को मिल सकता है। इस खबर के बाद पंजाब नेशनल बैंक के शेयर में बुधवार को करीब 8 प्रतिशत की गिरावट हुई है।

पढ़ें:
कर्नाटक में भी गुजरात की राह पर राहुल, GST पर निशाना साध जीत रहे हैं कारोबारियों का दिल!


विदेश में भेजे पैसे
पंजाब नेशनल बैंक द्वारा जारी एक पत्र के मुताबिक उक्त लेन देन कुछ चुनिंदा खाता धारकों की सहमति से उन्हें फायदा पहुंचाने के लिए हुए थे। साथ ही इस ट्रांजैक्‍शन के आधार पर दूसरे बैंकों ने इन कस्‍टमर्स को विदेश में एडवांस पैसे ट्रांसफर किए। हालांकि, बैंक ने इस धोखाधड़ी में शामिल लोगों के नाम का खुलासा नहीं किया है लेकिन मामला जांच एजेंसियों को भेज दिया गया है। बैंक के मुताबिक इस मामले में और भी तथ्य सामने आ सकते हैं। फिलहाल इस मामले की जांच जारी है।

पढ़ें: नापाक हरकत के बाद पाकिस्तान की दादागिरी, कहा: भारत को उसी की भाषा में जवाब मिलेगा

पूर्व के वर्षों के आंकड़े
सरकारी आंकड़े दिखाते हैं कि बट्टा खाते में डाली जाने वाली राशि 5 साल की अवधि में तीन गुना तक बढ़ गई है। एक नजर:
  • वित्त वर्ष 2012-13 में सरकारी बैंकों का कुल बट्टा खाता 27,231 करोड़ रुपये था।
  • वित्त वर्ष 2013-14 में सरकारी बैंकों ने 34,409 करोड़ रुपये के फंसे कर्ज को बट्टे खाते डाला था।
  • वित्त वर्ष 2014-15 में यह राशि 49,018 करोड़ रुपये, 2015-16 में 57,585 करोड़ रुपये।
इससे पहले वित्त वर्ष 2016-17 में बैंकों के बट्टे खाते में कुल मिलाकर 81,683 करोड़ रुपये की राशि डाली गई थी।


जारी की हुई चिट्ठी

वर्तमान हालात

इसके अलावा चालू वित्त वर्ष (2017-18) में सितंबर की छमाही तक सरकारी बैंकों ने 53,625 करोड़ रुपये के कर्ज को बट्टे खाते में डाले गए। बट्टे खाते में SBI के पैसे सबसे ज्यादा

बता दें कि सबसे बड़े सार्वजनिक बैंक- SBI ने वित्तीय वर्ष 2016-17 में 20,339 करोड़ रुपये से अधिक का फंसा हुआ कर्ज बट्टे खाते में डाला है। यह आंकड़े तब के हैं जब SBI में उसके सहयोगी बैंकों का विलय नहीं किया गया था।

पंजाब नेशनल बैंक ने वित्त वर्ष 2016-17 में 9,205 करोड़ रुपये बट्टे खाते डाले हैं।
अन्य बैंकों में बैंक ऑफ इंडिया ने 7,346 करोड़ रुपये, केनरा बैंक ने 5,545 करोड़ रुपये और बैंक ऑफ बड़ौदा ने 4,348 करोड़ रुपये बट्टे खाते डाले हैं।

सरकार द्वारा पिछले महीने घोषित सुधार एजेंडे को अंगीकार किए जाने के बाद सार्वजनिक बैंकों ने अपने खातों की ‘साफ सफाई’ का अभियान शुरू किया है। इसके तहत बैंक धोखाधड़ी के मामलों को बिलकुल सहन नहीं करने का एजेंडा लेकर चल रहे हैं।

पढ़ें: यहां इलाज नहीं मिलती है मौत! घटना जान कांप जाएगी रूह

280.70 करोड़ रुपये का चूना
सार्वजनिक बैंक के एक आला अधिकारी ने कहा कि सीबीआई द्वारा हाल ही में अरबपति जौहरी ​नीरव मोदी के खिलाफ मामला दर्ज किया जाना भी इसी सुधार प्रक्रिया का हिस्सा है। सीबीआई ने पंजाब नेशनल बैंक को 280.70 करोड़ रुपये का कथित चूना लगाए जाने के मामले में नीरव मोदी के खिलाफ मामला दर्ज किया है।
और मामलों का होगा खुलासा

अधिकारियों के अनुसार वित्त मंत्रालय ने बैंकों से स्पष्ट रूप से कहा है कि वे इस मामले में खामियों को दूर करने के लिए अग्रसक्रिय रुख अपनाएं। ऐसे में आने वाले दिनों में धोखाधड़ी के ऐसे और मामलों का खुलासा होने की संभावना जताई जा रही है।

पढ़ें: 'पढ़ना लिखना है बेकार, जब करना है पकौड़े का व्यापार'

संदिग्ध खातों की जांच पड़ताल
अधिकारियों के अनुसार वित्त मंत्रालय ने 24 जनवरी को बैंकों को सुधार एजेंडा वितरित किया है। इसमें उनसे कहा गया है कि वे संदिग्ध खातों की जांच पड़ताल करें। एजेंडा में धोखाधड़ी को बिलकुल सहन नहीं करते हुए ‘धोखेबाजों’ के खिलाफ कार्रवाई की बात भी कही गई है।

बैंकों को यहां तक कहा गया है कि उचित आधार होने पर पर अपने ही कर्मचारियों के खिलाफ भी कार्रवाई से पीछे नहीं हटें। इसके साथ ही बैंकों से कहा गया है कि वे उन खातों पर नियमित रूप से निगाह रखें जो कि अधिक मूल्य के हैं और जिनका उल्लेख किया गया है। एजेंडे में बैंकों से कहा गया है कि वे विशेष टीम के जरिए वसूली प्रयासों पर जोर दें।

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  सहेली

  गैलरी

  टूरिज़्म

  اردو خبریں

  ଓଡିଆ ନ୍ୟୁଜ

  ગુજરાતી ન્યૂઝ

  MAJOR CITIES