• A
  • A
  • A
आतंकी मन्नान पर सियासत, कश्मीर बंद, AMU पहुंची सियासत

नई दिल्ली/श्रीनगर: आतंकी मन्नान वानी की मौत पर सियासत तेज हो गई है. जन्मू-कश्मीर में आज बंद रखा गया है. जम्मू कश्मीर की पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती ने आतंकी की मौत को क्षति बता डाला. घाटी के कुछ नेताओं ने उसे 'शहीद' करार दे दिया. यूपी के अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में तीन छात्रों ने शोक सभा का आयोजन कर दिया.

मारा गया आतंकी मन्नान वानी (सौ. कश्मीर ग्लोबल) -फाइल फोटो.


हिज्बुल आतंकी मन्नान वानी एएमयू का छात्र रह चुका है. वह यहां पीएचडी में पढ़ाई कर रहा था. इसी दौरान वह आतंकी संगठन से जुड़ गया था. तब यूनिवर्सिटी ने कार्रवाई करते हुए उसे निष्कासित कर दिया था.
गुरुवार को उसके एनकाउंटर के बाद एएमयू में कुछ छात्रों ने एक शोक सभा का आयोजन किया था. यह जानकारी जैसे ही विवि प्रशासन को मिली, तीन छात्रों को निकाल दिया गया है. तीनों छात्र कश्मीर के बताए जा रहे हैं.
हालांकि, यूनिवर्सिटी के पीआरओ ने इस खबर को लेकर अलग प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने इस खबर को गलत बताया है. पीआरओ ओमर पीरजादा ने बताया कि ऐसी कोई घटना हुई ही नहीं है और न ही कभी होने दी जाएगी. कुछ छात्र गैरकानूनी तरीके से एकत्रित हुए थे, उसे भी बंद करा दिया गया था.

कश्मीर बंद का असरबंद के कारण कश्मीर में स्कूल, उच्च शैक्षिक संस्थान और व्यापारिक प्रतिष्ठान नहीं खुले. अलगाववादियों के संगठन ज्वाइंट रेसिस्टेंस लीडरशिप ने बंद का आयोजन किया है. इसमें सैयद अली शाह गिलानी, मीरवाइज उमर फारूक और मोहम्मद यासीन मलिक शामिल हैं.
उन्होंने बताया कि अधिकतर स्थानों पर सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था ठप रही, लेकिन कुछ निजी वाहनों को सड़कों पर देखा गया.
प्रदेश के कुपवाड़ा जिले के हंदवाड़ा इलाके में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में वानी और उसके सहयोगी आशिक हुसैन जरगर के मारे जाने के बाद अलगाववादियों ने बंद का आह्वान किया है.
उन्होंने बताया कि घाटी में अबतक स्थिति शांतिपूर्ण है . हालांकि, बंद के मद्देनजर बड़ी तादाद में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है.
पढ़ें:AMU के इस हॉस्टल में रहकर पीएचडी कर रहा था आतंकी, सुरक्षाबलों ने किया ढेर

हंदवाड़ा में हुआ था एनकाउंटर
वानी सहित तीन आतंकी कुपवाड़ा के हंदवाड़ा में हुए एनकाउंटर के दौरान मारा गया था.


एनकाउंटर की खबरें आने के बाद महबूबा मुफ्ती ने विवादास्पद ट्विट किया. उन्होंने लिखा कि हम पढ़े लिखे नौजवानों को खोते जा रहे हैं. हमें बातचीत का रास्ता अख्तियार करना चाहिए. पाकिस्तान से भी बातचीत करनी चाहिए.घाटी के कुछ नेताओं ने मन्नान को शहीद तक बता डाला.

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.