• A
  • A
  • A
यहां नागपंचमी के दिन इस तरह होती है सांप की पूजा...वीडियों देखकर डर जाएंगे आप

समस्तीपुर। देश के कई हिस्सों में नागपंचमी का त्यौहार धूमधाम से मनाया जाता है, लेकिन समस्तीपुर में इस त्यौहार की रंगत ही कुछ और होती है। यहां भगत नदी में जाकर तंत्र के द्वारा विषैले सांपों को निकालते हैं। इसके बाद इसकी पूजा करके और दूध पिलाकर वापस छोड़ दिया जाता है।

सांप पकड़ते और उससे खेलते लोग, स्थानीय लोगों का बयान


समस्तीपुर के 23 किलोमीटर दूर सिंधिया घाट पर नागपंचमी के दिन अद्भुत मेला लगता है। इस मेले में लोगों से ज्यादा सांप होते हैं। हर हाथ में आप विषैले सांप देखें। चाहे वो बड़े हो, बुजुर्ग हो या फिर बच्चे। सब सांप से खेलते नजर आ जाएंगे। नागपंचमी के दिन सांपों की पूजा होती है। फिर इन्हें दूध पिलाकर मन्नत मांग कर वापस छोड़ दिया जाता है।


स्थानीय लोगों के मुताबिक यहां 300 सालों से यह अद्भुत मेला लगता है। नागपंचमी के दिन नागों को पकड़कर पूजा करने की प्रथा है। पुराने के जमाने पर ऋषि मुनि सांपों से किसी को डर ना लगे और सांप किसी को ना काटे इसे लेकर कुश का सांप बनाकर पूजा करते थे। आज धीरे-धीरे तस्वीर बदल रही है। अब लोग असली सांप पकड़कर पूजा करते हैं।

पढ़ें :ना सोनिया से बात हुई, ना तेजस्वी इस्तीफा देंगे : लालू

स्थानीय लोगों की माने तो आज तक सांप यहां किसी को नहीं काटा। लोग यहां दूर-दूर से इस मेले को देखने के लिए आते हैं। सांप को देखकर इनके चेहरे पर डर नहीं, बल्कि खुशी नजर आती है और वो इनकी पूजा करके मन्नत मांगते हैं।

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  सहेली

  गैलरी

  टूरिज़्म

  اردو خبریں

  ଓଡିଆ ନ୍ୟୁଜ

  चुनाव

  ગુજરાતી ન્યૂઝ

  MAJOR CITIES