• A
  • A
  • A
मांडु का किला: रहस्य, रोमांच, मोहब्बत, सब कुछ छिपा है सदियों पुरानी इन दीवारों में

धारः इंसानी सभ्यता जिस रूप में आज है, हमेशा से वैसी नहीं रही. सदियों के अनवरत विकास और अन्वेषण से हम यहां तक पहुंचे हैं और हमारे इस क्रमिक विकास की दास्तान कहता है इतिहास. इतिहास हमें अपने वजूद का एहसास कराता है, इतिहास सिर्फ किसी शासन के उत्थान और पतन की गाथा भर नहीं बताता, बल्कि वह अपने भीतर तमाम राज, एहसासों, कहानियों, युद्धों, सभ्यताओं और कलाओं को संजोकर रखता है. किसी भी जगह का वजूद, उसकी खासियत जानने के लिए इतिहास के उन पन्नों को पलटना बेहद जरुरी है, जहां उससे जुड़े सारे तथ्य, सारी कहानियां दस्तावेज के रूप में मौजूद हैं.

डिजाइन इमेज।


अपनी खूबसूरती के लिए प्रसिद्ध मांडु का किला भी ऐसे ही कई किस्सों, कहानियों को अपने गर्भ में छिपाये हुए है. मांडु को महलों का गढ़ कहा जाता है. यहां मौजूद महल जो आज वीरान हैं, उनमें कभी रानियों की पायलों की झंकार खनकती थी. यहां कभी शाही दावतें होती थीं तो कभी युद्ध की रणनीति बनाई जाती थी. लेकिन, वीरान होते इन महलों में आज भी कई आवाजें गूंजती हैं, बातें करती हैं और इसके रहस्यों को जानना चाहती हैं. ये आवाजें हैं उन लोगों की जो यहां कभी रोमांच की तलाश में आते हैं तो कभी अपने वजूद की खोज उन्हें यहां खींच लाती है. कई बार वो कहानियां भी उन्हें बुलाती हैं जो इन इमारतों की बनावट के पीछे के कई राज अपने पास छिपाई हुई हैं.

बारिश के दौरान मांडु का खूबसूरत नजारा
विंध्याचल पर्वत पर स्थित मांडु 12 दरवाजों से घिरा हुआ है. मांडु के मुख्य प्रवेश द्वार को दिल्ली दरवाजा कहा जाता है. इस दरवाजे को घुमावदार तरीके से बनाया गया था, जिससे दरवाजे को पार करते वक्त हाथी और घोड़ों की गति को कम करना पड़े. घुमावदार दरवाजे के पीछे ये सोच थी कि इससे हमले के वक्त दुश्मन की गति कम हो जाए. मांडु के सभी बारह दरवाजों में ऐसी कोई ना कोई खासियत है जो दुश्मन के लिए मुश्किलें बढ़ा सकती है. इन दरवाजों को पार करने के बाद ही मांडु के महलों तक पहुंचा जा सकता है.



मांडु स्थित हिंडोला महल

कहा जाता है कि मांडु के सुल्तान बाज बहादुर को एक किसान की बेटी रुपमती से प्यार हो गया था. रुपमती जितनी खूबसूरत थी उतनी ही कुशल गायिका भी थी. बाज बहादुर ने रुपमती से शादी कर उसे रानी बना लिया. लेकिन, रुपमती नर्मदा नदी के दर्शन किए बिना खाना नहीं खाती थीं, जब सुल्तान को इस बारे में पता चला तो उन्होंने नर्मदा के पास रुपमती के लिए एक महल का निर्माण कराया ताकि वह महल से ही नर्मदा के दर्शन कर सकें. इस महल को आज भी रानी रुपमती महल के नाम से जाना जाता है.


जहाज महल

महल की छत पर चलने वाली मतवाली हवाएं और यहां से दिखने वाले नजारे से अंदाजा लगाया जा सकता है कि महल के लिए उस जगह का चुनाव क्यों किया गया था. महल की छत से मांडु के आसपास बनी घाटी का दृश्य और ऊपर की ओर नज़र उठाते ही दिखने वाला निर्मल आसमान आंखों को शीतलता का एहसास कराता है. रुपमती की सुरक्षा के लिए बाज बहादुर ने महलों को कुछ इस तरह बनवाया था कि रुपमती महल तक पहुंचने से पहले हमलावर को कई महल पार करने पड़ते. जिनमें से एक महल खुद बाज बहादुर का था.


डमासकस की महान मस्जिद से प्रेरित मांडु स्थित जामी मस्जिद

रानी रूपमती महल की तरह ही मांडु का जहाज महल भी अपनी खूबसूरती में लाजवाब है. इसे दो तालाबों के बीच बनाया गया था. इन तालाबों को कपूर तालाब और मुंज तालाब कहा जाता है, जिसके बीच में जहाज की आकृति का महल बनाया गया था. इस महल को देखकर ऐसा लगता है मानो एक जहाज सच में पानी में चल रहा हो. जहाज महल को रानियों के रहने के लिए बनवाया गया था, एक शाही हरम की तरह. इसकी ऊंची-ऊंची दीवारों को देखकर हम उस समय की कल्पनाओं में खो जाते हैं, जब रानियां यहां शान से रहती होंगी. यहां बनी बड़ी-बड़ी खिड़कियों से आते ठ्ंडी हवा के झोंके आज भी एक खुशनुमा एहसास देते हैं.


मांडु के सुल्तान बाज बहादुर का महल

मांडु में बना हिंडोला महल भी अपनी खूबसूरती के लिए जाना जाता है. इसका नाम हिंडोला महल किसलिए रखा गया इसका अंदाजा इसे देखते ही लग जाता है. दरअसल इस महल को झूले की तरह बनाया गया है. इस वजह से दूर से देखने पर ऐसा लगता है कि ये महल नहीं बल्कि एक झूला हो. हिंडोला महल में राजनीतिक सभाओं का आयोजन किया जाता था. ये महल अंदर से ऑडिटोरियम की तरह ही बना हुआ है.



हिंडोला महल के दरवाजे

मांडु अपने आर्किटेक्चर के लिए प्रसिद्ध है. रानियों के स्नान के लिए बनाई गई चम्पा बावड़ी में कई गुप्त रास्ते बनाए गए थे ताकि हमला होने पर रानियां सुरक्षित बाहर निकल सकें. पहाड़ों पर बसे होने के कारण मांडु में एक उम्दा वॉटर हारवेस्टिंग सिस्टम भी बनाया गया था. यहां मौजूद पांच महलों में अब भी वॉटर हारवेस्टिंग सिस्टम के अंश आज भी दिखाई देते हैं. इन पांच स्मारकों में, लगभग 700 छोटे और बड़े पानी के टैंक हैं।


रानी रुपमती महल

अपने आर्किटेक्चर, रुपमती और बाज बहादुर कि प्रेम कहानी के अलावा मांडु से जलन और नफरत की कहानी भी जुड़ी है. कहा जाता है कि अकबर मालवा पर कब्जा करना चाहता था, इस इच्छा को पूरा करने के लिए उसने मालवा के मांडु को अपना निशाना बनाया और मांडु पर हमला कर दिया. बाज बहादुर ने बडी़ बहादुरी से अकबर की फौज का मुकाबला किया, लेकिन अकबर की विशाल सेना के सामने बाज बहादुर कि सेना टिक नहीं पाई और उसे बंदी बना लिया गया. कहा जाता है कि जब रुपमती को बाज बहादुर के बंदी बनाए जाने की खबर मिली तो उन्होंने हीरा निगलकर आत्महत्या कर ली. हालांकि कुछ लोगों का कहना है कि उन्होंने अपनी कटार से खुद पर हमला कर लिया था.

पढ़ेंःधर्म, अध्यात्म, दर्शन और प्राकृतिक खूबसूरती, हर एहसास छिपा है सांची...
रूपमती के खुदकुशी करने की एक वजह ये भी बताई जाती है कि अकबर ने अपने जिस सेनापति आदम ख़ान को मांडु पर हमला करने के लिए भेजा था, वो भी रूपमती की खूबसूरती का दीवाना था और किसी भी सूरत में उसे हासिल करना चाहता था. जब रूपमती को अपने पति बाज बहादुर के बंदी बनाए जाने की ख़बर मिली तो उसे लगा कि अब आदम खान का रुख उसकी तरफ होगा, यही सोचकर उसने अपना जीवन खत्म कर लिया. कहते हैं कि बाज बहादुर की मौत के बाद अकबर ने रूपमती की कब्र के पास ही उसकी कब्र बनवाई थी ताकि उनके अमर प्रेम की कहानी से पीढ़ियां रू-ब-रू होती रहें.
पढ़ेंःजादुई एहसास देता है प्रकृति की गोद में बसा रनेहफॉल, देखने वाले खो...
मांडु में बाज और रुपमती के प्रेम की झलक दिखाई देती है. मांडु का मौसम बारिश में और भी सुहाना हो जाता है और इसकी खूबसूरती दोगुनी हो जाती है. चारों तरफ हरियाली ही हरियाली, ऊंची इमारतों से दिखता खुला आसमान और नीचे मीलों तक फैली मालवा की धरती. ऐसे नजारों को देखकर पैट कोनरोय के वो शब्द अक्षरश: सच लगने लगते हैं जिनके मुताबिक, 'यात्रा करने के बाद सफर कभी खत्म नहीं होता है बल्कि हमारे दिलो-दिमाग के शांत हिस्सों में सदा चलता रहता है.' साथ ही मांडु में बनी जामी मस्जिद डमासकस की महान मस्जिद से प्रेरित है.


CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  सहेली

  गैलरी

  टूरिज़्म

  ASSEMBLY ELECTIONS 2018

  MAJOR CITIES