• A
  • A
  • A
रेल प्रबंधन की अनदेखी से बदरंग हुआ मिथिला पेंटिंग, जनता आक्रोशित

दरभंगा। रेलवे को क्षेत्र की संस्कृति व कला का संवाहक माना जाता है। बावजूद इसके दरभंगा जंक्शन पर लगे बदरंग मिथिला पेंटिंग रेलवे प्रशासन की संवेदनहीनता को दर्शा रही है। इसको लेकर कला प्रेमियों में काफी रोष है। हालांकि रेलवे का कहना है कि मिथिला पेंटिंग को लेकर प्रशासन गंभीर है और आगे युद्धस्तर पर काम होगा।

दरभंगा जंक्शन


बिहार की सांस्कृतिक राजधानी मिथिलांचल अपनी विशिष्ट कला व समृद्ध सांस्कृतिक परंपरा के कारण विश्व विख्यात है। लेकिन मिथिला पेंटिंग के प्रति रेल प्रबंधन की लापरवाही को देखकर कला प्रेमी में काफी नाराज हैं।



मधुबनी पेंटिंग


मधुबनी से सीखें
दरभंगा जंक्शन से महज 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित मधुबनी रेलवे स्टेशन की दीवारों पर कोहबर पेंटिंग और मंजूषा पेंटिंग लोगों को आकर्षित करती है। अपनी खासियत की वजह से इसे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में इस स्टेशन का नाम दर्ज हो चुका है।

पढ़ें : नीतीश के काफिले पर हमले में अब तक 19 लोगों की गिरफ्तारी

चर्चा नहीं काम करिये!

दरभंगा जंक्शन के स्टेशन प्रबंधक की मानें तो समस्तीपुर रेल मंडल के डीआरएम मिथिला पेंटिंग को लेकर काफी गंभीर हैं। लेकिन वर्तमान स्थिति को देखकर तो नहीं लगता कि रेल प्रबंधन मिथिला पेंटिंग को लेकर किसी तरह की कोई गंभीरता दिखा रहा हो।



CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  सहेली

  गैलरी

  टूरिज़्म

  MAJOR CITIES