• A
  • A
  • A
NGT का बड़ा आदेश: एस्क्रो अकाउंट में 500 करोड़ जमा करवाए कर्नाटक सरकार

नई दिल्ली: नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने बेंगलुरु की बेलांदुर झील को पुनर्जीवित करने के लिए कर्नाटक सरकार को 500 करोड़ रुपये एस्क्रो अकाउंट में जमा करवाने की बात कही है. एनजीटी ने झील के आसपास अतिक्रमण हटाने और झील को पुनर्जीवित करने के लिए सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज जस्टिस संतोष हेगड़े के नेतृत्व में एक कमेटी का गठन किया है.

डिजाइन फोटो.


एनजीटी ने बेलांदुर झील में पिछले दिनों लगी आग और झील के आसपास अतिक्रमण न हटाने पर कर्नाटक सरकार को 50 करोड़ रुपये और बेंगलुरु नगर पालिका को 25 करोड़ रुपये केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के यहां जमा करने का आदेश दिया है.
'एक्शन प्लान तैयार करें कर्नाटक सरकार'
एनजीटी ने कहा कि झील में कोई भी प्रदूषित कचरा नहीं गिरे, ये सुनिश्चित करने के लिए पंजवानी कमेटी की रिपोर्ट की अनुशंसाओं को लागू किया जाए. एनजीटी ने निर्देश दिया कि कर्नाटक सरकार एक महीने में झील को पुनर्जीवित करने के लिए एक्शन प्लान तैयार करें. एनजीटी ने कहा कि अगर कर्नाटक सरकार एक्शन प्लान को अमल में नहीं लाती है तो उसे सौ करोड़ रुपये अतिरिक्त जमा करने होंगे.


76 उद्योगों को बंद करने का आदेश
एनजीटी ने बेलांदुर झील के आसपास के 76 उद्योगों को बंद करने का आदेश दिया था. एनजीटी चेयरपर्सन जस्टिस स्वतंत्र कुमार ने बेंगलुरु के उपायुक्त को आदेश दिया था कि इन उद्योगों की पानी और बिजली के कनेक्शन तत्काल प्रभाव के काट दिए जाएं.

सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट को बंद करने के आदेश
एनजीटी ने आसपास के हाउसिंग सोसायटी और रिहायशी कांपलेक्स को भी निर्देश दिया था कि उनके सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट तय मानदंड के मुताबिक काम न पाए जाने पर बिजली और पानी का कनेक्शन काट दिए जाएं.

ये भी पढ़ें- सुनंदा पुष्कर मौत: स्वामी को पक्षकार बनाने पर फैसला सुरक्षित, इस दिन होगा फैसला
इनके सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट की जांच बेंगालुरु वाटर सप्लाई और सीवरेज बोर्ड और राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा संयुक्त रुप से काम कराने का निर्देश दिया था. जहां सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट नहीं काम कर रहे हैं वहां एक तय समय के भीतर अपने प्लांट को मानदंडों के मुताबिक ठीक कर लेना होगा नहीं तो उनकी भी बिजली और पानी काट दी जाएगी.

एनजीटी ने झील के आसपास कचरा डंप करने वालों पर पांच लाख रुपये का मुआवजा वसूलने का भी आदेश दिया था. एनजीटी ने राज्य सरकार को आदेश दिया था कि झील को सभी प्रदूषण फैलाने वालों से मुक्त करें.

ये भी पढ़ें- अब 2 नहीं एक शिफ्ट में होगी निगम के स्कूलों में पढ़ाई, AAP ने जताई नाराजगी

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  सहेली

  गैलरी

  टूरिज़्म

  ASSEMBLY ELECTIONS 2018

  MAJOR CITIES