• A
  • A
  • A
एक हाईवे जहां आपकी गाड़ी का पीछा करेगी पीली फॉक्सवॉगन

कराक हाईवे, नाम सुनकर तो यही लगेगा कि यह एक आम राजमार्ग है जो दो शहरों को आपस में जोड़ता होगा और है भी, यह हाईवे क्वालालंपुर जेनटिंग हाईलैंड्स से जोड़ता है। लेकिन इस हाईवे की कहानी इतनी सरल नहीं जितनी लग रही है। इस हाईवे पर भूतों का बसेरा है। भूत जो आपको दिखते भी हैं और आपके एक्सीडेंट का कारण भी बनते हैं।


कराक हाईवे 1970 में बनाया गया था, लेकिन आम लोगों के लिए यह हाईवे 1977 में खोल दिया गया था। कराक हाईवे की लंबाई 60 किलोमीटर लंबा है। इस हाईवे पर आपको दो सुरंगे भी मिलेगी साथ ही आपको रास्ते में खूबसूरत नजारे भी देखने को मिलेंगे साथ ही मिलेगी एक पुरानी पीली फॉक्सवॉगन। पीली फॉक्सवॉगन(Yellow Volkswagon) का किस्सा हम बाद में बयां करेगे पहले आप यह जान लें कि यह रास्ता अब तक कई लोगों की जान का दुश्मन बन चुका है और इसे दुनिया का सबसे डरावनी सड़कों में भी शुमार किया जा चुका है।


इस हाईवे पर जाने वाले कई तरह के भूतों की कहानी बताते हैं। आइए जानते हैं कि वो कहानियां जो आपके आसानी से रोंगटे खड़े कर सकती है-

एक आदमी को खा गया कोई...
त्योहार का मौसम था तो उस दौरान एक कपल अपने बच्चे के साथ उस हाईवे पर जा रहा था। हर चीज बेहद नॉर्मल और खुशगवार थी। तभी अचानक एक सुनसान जगह पर गाड़ी बंद हो जाती है। पति को हैरानी थी क्योंकि यह सफर तय करने से पहले ही उसने कार की सर्विसिंग करवाई थी ताकि रास्ते में कोई दिक्कत न हो। उसने कार को ठीक करने की कोशिश की लेकिन लाख कोशिशों के बावजूद कार ठीक न हुई। रास्ते में चलता राहगीर मदद कर दे इसलिए उसने इंतजार करना मुनासिब समझा। लेकिन कोई न आया, रात बीतती जा रही थी और कोई आसपास भी न था इसलिए पति को लगा कि उसे फोन करके किसी को मदद के लिए बुला लेना चाहिए, लिहाजा पत्नी को गाड़ी के अंदर रहने और बच्चे की देखभाल करने की सलाह देकर वो फोनबूथ की तलाश में निकल गया। समय बीतता गया पर पति वापस न आया।

कुछ देरा बाद दंपति की गाड़ी के पास पुलिस की गाड़ी आई। उन्होंने कहा कि वो बच्चे को लेकर चुपचाप गाड़ी से बाहर निकल आएं और उनकी गाड़ी में आकर बैठ जाएं इस दौरान वो इधर-उधर न देखें। पत्नी ने यही किया। वो गाड़ी में बैठी और गाड़ी चल दी। कुछ दूर जाने के बाद उसने जब अपनी गाड़ी की ओर पलट कर देखा तो उसके होश फाक्ता हो गए, उसने देखा कि उसके पति का सिर गाड़ी के ऊपर रखा हुआ है और एक विशालकाय नरभक्षी उसकी पति के शरीर को नोंच-नोंच कर खा रहा है।

रहस्यमयी पीली फॉक्सवॉगन कराती है एक्सीडेंट
क्या आपने कराक हाईवे पर पीली फॉक्सवॉगन देखी है? इस हाईवे से गुजरने वाले लोग तो इस पीली फॉक्सवॉगन से अच्छे से रू-ब-रू हैं। यह पीली फॉक्सवॉगन पहले आपकी गाड़ी के आगे आकर आपका रास्ता ब्लॉक करेगी और मजबूर करेगी कि आप उस गाड़ी को ओवरटेक करें, आप उसे ओवरटेक तो कर लेंगे लेकिन बाद में आपको फिर दोबारा एक पीली फॉक्सवॉगन कार देखने को मिलेगी। अगर आप उसे भी ओवरटेक कर लेंगे तो फिर एक और, और फिर एक और...। यह सिलसिला बदस्तूर चलता रहेगा। ये पीली गाड़ी आपको स्पीड तेज करने पर मजबूर कर देगी और तब तक आपको ललायित करेंगी जब तक आपका एक्सीडेंट नहीं हो जाता। लेकिन अगर आप इस गाड़ी की ओर अगर ध्यान से देखेंगे तो आपको इस गाड़ी में कोई ड्राइवर देखने को नहीं मिलेगा। इसलिए इस गाड़ी को ओवरटेक करने की सलाह नहीं दी जाती है।

खोया हुआ स्कूल का बच्चा जो पूछता है अपनी मां का पता
अगर आप इस हाईवे पर जा रहे हैं और रास्ते में आपको एक स्कूल का बच्चा दिखाई देता है जो कि खोया हुआ सा लग रहा है तो आपको सावधान होने की जरूरत है। इस लड़के की आंखें खून से लथपथ हैं और बार-बार वह आपसे अपनी मम्मी का पता पूछता रहेगा। कहा जाता है कि इस जगह पर एक मां-बेटे का एक्सीडेंट हुआ था।
मां जो गाड़ी ड्राइव कर रही थी जब उसे इस बात को अंदेशा हुआ कि आगे एक्सीडेंट होने वाला है तो उसने गाड़ी से छलांग मार ली लेकिन बेटा उसी गाड़ी में रह गया। एक्सीडेंट में विंडस्क्रीन और कांच उसकी आंख में जाकर घुस गया और वो मर गया। तब से वह अपनी मां की तलाश में इस हाईवे पर इधर-उधर मंडरा रहा है।

रेडियो स्टेशन में वो मौत का कॉल

एक रात लोकल रेडियो स्टेशन पर कॉल आया जिसने सबकी रूहें कंपा दी। रेडियो जॉकी कॉलर की बात को ध्यान से सुन रहा था। कॉलर ने कहा कि वो हाईवे पर ड्राइव कर रहा था और उसका बहुत बुरा एक्सीडेंट हो गया, उसकी गाड़ी नीचे जा गिरी। उस कार में उसकी बीवी, बच्चे और मां-बाप थे जो उसके सामने ही मरे पड़े हैं लेकिन एक चीज जो सबसे ज्यादा तकलीफ दे रही है वो यह है कि उसका भी शव उसी के सामने ही पड़ा हुआ है। तभी लाइन कट जाती है। रेडियो जॉकी फिर दोबारा उस कॉल के लिए ट्राई करता है लेकिन कॉल नहीं लगता। इस कॉल को मजाक समझ कर जॉकी उस मुद्दे को वहीं रफादफा कर देता है।

लेकिन अगले दिन, अखबार में उसी एक्सीडेंट की खबर छपी जिसका जिक्र उस कॉलर ने किया था। साथ ही वो सारी डिटेल भी सही निकली जो उस कॉलर ने बताई थी। जॉकी ने फिर दोबारा उस रिकॉर्डिंग को सुनने की कोशिश की लेकिन रिकॉर्डिंग के उस हिस्से में खामोशी के आलावा कुछ न था।



CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  सहेली

  गैलरी

  धर्मक्षेत्र

  टूरिज़्म

  اردو خبریں

  ଓଡିଆ ନ୍ୟୁଜ

  MAJOR CITIES