• A
  • A
  • A
मंत्री पद को लेकर कांग्रेस में घमासान, सिंधिया के करीबी विधायक ने इस्तीफा देने की कही बात

धार। मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिलने से बदनावर विधायक राजवर्धन सिंह खासे नाराज हैं. गुरूवार को आभार बैठक में उन्होंने अपना दर्द बयां करते हुए कहा कि मैं सोच रहा था आखिर क्यों मुझे मंत्री नहीं बनाया गया, फिर दिमाग में कुछ बातें आईं, शायद इसलिए नहीं, क्योंकि मैं किसी पूर्व उपमुख्यमंत्री या पूर्व मुख्यमंत्री का बेटा नहीं हूं. इसके साथ ही उन्होंने इस्तीफा देने की बात भी कही.

कांग्रेस विधायक ने कही इस्तीफे की बात।


दरअसल, सीएम कमलनाथ के मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिलने से बदनावर से कांग्रेस विधायक राजवर्धन सिंह दत्तीगांव काफी नाराज हैं. बीजेपी के भंवर सिंह शेखावत को भारी मतों से मात दी है और ज्योतिरादित्य सिंधिया के करीबी भी माने जाते हैं. सिंधिया ने ही उन्हें टिकट दिलवाया था.

पढ़ें-शिवपुरी: केपी सिंह के समर्थक ने सिंधिया को दी धमकी, कहा- पिछोर में घुसना बैन
विधायक राजवर्धन सिंह दत्तीगांव ने कहा कि ये अपमान है बदनावर के 84,499 मतदाताओं का. उन्होंने कहा कि मैं किसी उपमुख्यमंत्री या किसी मुख्यमंत्री का बेटा नहीं हूं, जैसे उमंग सिंघार भतीजे हैं उपमुख्यमंत्री(स्व.जमुना देवी) के, सचिन यादव बेटे हैं पूर्व उपमुख्यमंत्री (स्व.सुभाष यादव) के, जयवर्धन सिंह बेटे हैं पूर्व मुख्यमंत्री (दिग्विजय सिंह)के, सुरेंद्र सिंह बघेल बेटे हैं पूर्व कैबिनेट मंत्री के(स्व.प्रताप सिंह बघेल) के इसी लिए मुझे मंत्री का पद नहीं दिया गया.
पढ़ें-भोपाल जिला कोर्ट ने बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा कि खिलाफ जारी किया वारंट, ये है मामला
इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मेरे पिता स्वर्गीय प्रेमसिंह दात्तीगांव (पूर्व विधायक कांग्रेस) सामान्य कार्यकर्ता रहे, पूरी निष्ठा से पार्टी की सेवा करी है शायद यही दोष है मेरा. उन्होंने कहा कि एहसान है मुझ पर ज्योतिरादित्य सिंधिया का जिन्होंने मुझे विधायक का टिकट दिलवाया, मैं उनका धन्यवाद करता हूं. मेरे पिता कहते थे कि किसी का एहसान नहीं रखना बेटा, इसलिए सिंधिया जी को विधायक पद से इस्तीफा लिख कर दे दूंगा.

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  गैलरी

  टूरिज़्म

  MAJOR CITIES