• A
  • A
  • A
शाह के सियासी क्लास में MP के सांसद, फटकार के साथ मिलेगा जीत का मंत्र?

भोपाल। मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान में हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी को सत्ता से हाथ धोना पड़ गया. एमपी-सीजी में पिछले 15 सालों से बीजेपी काबिज थी, इस बार बदले सियासी रुख ने बीजेपी के विजय रथ पर पांच साल के लिए ब्रेक लगा दिया. जिसके चलते आज अमित शाह ने यहां के सांसदों को तलब किया है.

अमित शाह.


दरअसल, इस हार ने बीजेपी के मनोबल को कमजोर कर दिया है या यूं कहें कि इस हार का बीजेपी पर मनोवैज्ञानिक दबाव भी काफी है क्योंकि 2014 में चली मोदी लहर ने कई राज्यों में बीजेपी को सत्तसीन किया था, उसी जीत ने बीजेपी का आत्मविश्वास भी सातवें आसमान पर पहुंच दिया था और विकास को जमीन पर उतारने की बजाय जुबान और फाइलों में उतारने लगी. हालांकि, इसके पहले बिहार और दिल्ली में भी पार्टी मुंह की खा चुकी है, लेकिन एमपी-छत्तीसगढ़ में सत्ता से बेदखल होना बीजेपी के लिए बड़े नुकसान के तौर पर देखा जा रहा है.
पढ़ेंःनर्मदा परिक्रमा से रखी परिवर्तन की नींव और सत्ता गंवाने के 15 साल बाद कराई वापसी
हाल में ही संपन्न हुए विधानसभा चुनाव को लोकसभा चुनाव के सेमीफाइनल के तौर पर माना गया, लिहाजा इस हार का असर आगामी चुनाव में भी दिख सकता है. यही वजह है कि बीजेपी अब नये सिरे से रणनीति बनाने में लगी है ताकि कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ सके, खासकर मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के लिए ये जरूरी है क्योंकि मध्यप्रदेश में तो बीजेपी आखिरी दम तक लड़ी और कांग्रेस को पांच कदम से आगे नहीं जाने दी, जबकि छत्तीसगढ़ में तो बीजेपी का सूपड़ा ही साफ हो गया.

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  गैलरी

  टूरिज़्म

  MAJOR CITIES