• A
  • A
  • A
मिजोरम विधानसभा चुनाव: BJP का सभी दलों से रहा 'खट्टा मीठा' रिश्ता !

आइजोल: केवल दस लाख की आबादी वाले इस छोटे से पर्वतीय राज्य में, दलों के राजनीतिक समीकरण अभी उलझे हुए हैं. सत्तारूढ़ कांग्रेस और मुख्य विपक्षी एमएनएफ दोनों अपनी ‘भाजपा विरोधी’ पहचान साबित करने के लिए प्रयास कर रहे हैं और दोनों का भाजपा से अपना-अपना गठजोड़ रहा है.

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह (फाइल फोटो).


ईसाई बहुल इस राज्य की 40 विधानसभा सीटों पर 28 नवंबर को होने वाले मतदान से पहले भाजपा का मुख्य चुनावी मुद्दा बनना मिजोरम के तीन दशक के चुनावी इतिहास के आंकड़ों के विपरीत है. दरअसल, भाजपा ने अब तक यहां कभी विधानसभा चुनाव नहीं जीता है.
11 दिसंबर को होगी मतगणना
चुनाव प्रचार में तेजी आने के बाद कांग्रेस और एमएनएफ भाजपा को ईसाई-विरोधी बताने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. उधर भाजपा ने भी उत्तर-पूर्व के इस राज्य में सत्ता हासिल करने के लिए योजनाबद्ध तरीके से प्रचार शुरू किया है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने दावा किया है कि इस साल दिसंबर में इस राज्य में क्रिसमस भाजपा के शासन में मनाया जाएगा. मतगणना 11 दिसंबर को होनी है.
इसे भी पढ़ें-चुनाव आयोग ने नई वेबसाइट की लॉन्च
क्या बीजेपी के साथ होगा गठबंधन
भाजपा नेता मिजोरम को अपने कांग्रेस मुक्त पूर्वोत्तर अभियान में अंतिम मोर्चे के रूप में देख रहे हैं क्योंकि पार्टी असम, त्रिपुरा, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश में सत्ता हासिल कर चुकी है जबकि मेघालय और नगालैंड में वह सत्तारूढ गठबंधन में शामिल है. मिजोरम कांग्रेस के लिए भी महत्वपूण है क्योंकि उसके शासन वाला यह पूर्वोत्तर का अंतिम राज्य है. केवल दो साल पहले कांग्रेस की असम, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश और मणिपुर सहित इस क्षेत्र के पांच राज्यों में सरकार थी.
2013 में कांग्रेस की हुई थी जीत
कांग्रेस 2008 से मिजोरम में सत्ता में हैं और वह लगातार तीसरी जीत पर नजर बनाए हुए है. निवर्तमान विधानसभा में कांग्रेस के 34 विधायक हैं जबकि एमएनएफ के पांच और मिजोरम पीपुल्स कांफ्रेंस का एक विधायक है. कांग्रेस ने 2013 में अपनी सीटों में इजाफा किया था. वर्ष 2008 में उसके पास 32 सीटें थीं लेकिन भाजपा इस बार सत्ता हासिल करने के लिए पूरा जोर लगा रही है.
इसे भी पढ़ें-मुख्तार अब्बास नकवी करेंगे IITF में 'हुनर हाट' का उद्घाटन
कांग्रेस ने बीजेपी पर साधा निशाना
हालांकि कांग्रेस राज्य में उसकी पारंपरिक प्रतिद्वंद्वी रही एमएनएफ पर आगामी चुनावों में भाजपा के साथ गठबंधन पर चुप्पी साधने का आरोप लगा रही है. कांग्रेस ने भाजपा और एमएनएफ के बीच संबंधों को दिखाने के लिए मिजो भाषा में 50 हजार पुस्तिकाएं छपवाई हैं जिसमें दो दलों के प्रमुख अमित शाह और जोरामथांगा एक साथ बैठे दिख रहे हैं.

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  गैलरी

  टूरिज़्म

  ASSEMBLY ELECTIONS 2018

  MAJOR CITIES