• A
  • A
  • A
मिजोरम विधानसभा चुनाव 2018: कांग्रेस के गढ़ पर BJP की नजरें

नई दिल्ली: मिजोरम में भारी सुरक्षा के बीच मतदान कराए जा रहे हैं. राज्य में 7,70,395 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर रहे हैं. खासकर मतदान निष्पक्ष हो इसका पूरा ध्यान रखा जा रहा है. मिजोरम में 40 सीटों के लिए 209 उम्मीदवार मैदान में हैं. वर्ष 2013 के विधानसभा चुनाव मं कांग्रेस ने 34 सीटों पर जीत दर्ज की थी.

डिजाइन इमेज.


2013 में मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) के खाते में 5 और मिजोरम पीपुल्स कांफ्रेंस की झोली में एक सीट आई थी. 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और मुख्य विपक्षी एमएनएफ ने 40-40 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े किए हैं. दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी इस बार 39 सीटों पर मतदान में हैं. बीजेपी इस बार कांग्रेस के इस मजबूत किले को ध्वस्त करने की पूरी कोशिश की है.

40 सीटों के लिए 209 उम्मादवार मैदान में हैं मिजोरम की 40 सीटों के लिए आठ राजनीतिक पार्टियां चुनावी मैदान में हैं. इनके 209 उम्मीदवार अपना भाग्य का फैसला जनता के हाथ में सौंप दिया है.

मुख्य पार्टियां जो मैदान में हैं सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी, मुख्य विपक्षी पार्टी नेशनल फ्रंट के 40-40 प्रत्याशी मैदान में हैं. दूसरी तरफ भाजपा के 39, नेशनल पीपुल्स पार्टी के 9 और नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी के 5 प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं.

2013 में कांग्रेस को मिला था इतना प्रतिशत वोट 2013 की विधानसभा चुनाव की बात की जाए तो कांग्रेस को उस वक्त 45 प्रतिशत एमएनएफ को 28 प्रतिशत वोट प्राप्त हुए थे. यहां आपको बताते चले कि, जोराम पीपुल्स पार्टी मूवमेंट (जेडपीएम) 7 क्षेत्रीय दलों को मिलाकर बनी है. एमपीसी को 6 प्रतिशत और जोराम नेशनलिस्ट पार्टी को 17 प्रतिशत मत प्राप्त हुए थे. जेडएनपी के अध्यक्ष लालदुहावमा ही पार्टी की तरफ से सीएम पद के दावेदार हैं.

पढ़ें: मिजोरम विधानसभा चुनाव : 40 सीटों पर वोटिंग शुरू
बीजेपी को मिजोरम में सबसे कम वोट शेयर है. यहां बीजेपी 1993 से चुनाव लड़ रही है लेकिन उस वक्त जनता पर इसका कोई खास प्रभाव नहीं पड़ा था. लेकिन इस बार बीजेपी कांग्रेस को कड़ी टक्कर दे रही है.


CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.