• A
  • A
  • A
दूल्हा बने महाकाल की महाशिवरात्रि पर हुई भस्म आरती, भक्तों का लगा रहा तांता

भोपाल। महाशिवरात्रि के पावन पर्व के दूसरे दिन महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में विशेष भस्म आरती का आयोजन किया जाता है, जो साल में एक बार होती है। वहीं आज के दिन दूल्हा बने महाकाल को सवा मन फूलों से उनका सेहरा सजाया जाता है।


महाशिवरात्रि के दूसरे दिन बाबा महाकाल की भस्म आरती के बाद श्रद्धालुओं का बाबा महाकाल का सेहरा लुटाया जाता है। महाशिवरात्रि पर्व के दूसरे दिन आज बाबा महाकाल के दूल्हे के श्रृंगार में दर्शन करने लिए श्रद्धालुओं का तांता लग गया। बाबा महाकाल के भक्त साल भर इंतजार करते हैं, क्योंकि महाशिवरात्रि के दूसरे दिन ही बाबा महाकाल को दूल्हे के रूप में सजाया जाता है।


पढ़ें : महाशिवरात्रि के मौके पर सिंधिया ने भगवान शिव का किया अभिषेक, मांगी ये मुराद

दूल्हे के रूप में होता है महाकाल का विशेष श्रृंगार
उनके दूल्हे के रूप में श्रृंगार और सेहरे के लिए सवा मन फूलों और फलों का उपयोग किया जाता है। भगवान महाकाल के सिर पर सजाया गया सेहरा मोगरा, कुंद, चमेली और आंकड़े के फूलों से से बनाया जाता है। सोने के कुंडल, मोर पंख और त्रिपुंड से श्रृंगार कर सवा मन फूलों और फलों का सेहरा पहनाया जाता है।


दोपहर के समय होती है खास भस्म आरती
बाबा महाकाल की भस्म आरती की जाती है। खास बात ये है कि दोपहर के समय में सिर्फ एक बार बाबा महाकाल की भस्म आरती होती है। बाकी दिनों में बाबा महाकाल की भस्म आरती रोजाना सुबह होती है। भस्म आरती के बाद बाबा महाकाल का सेहरा लुटाया जाता है। इस विशेष श्रृंगार और भस्म आरती के बाद भक्तों का बाबा महाकाल के दर्शन का अवसर मिलता है।

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  सहेली

  गैलरी

  टूरिज़्म

  MAJOR CITIES