• A
  • A
  • A
आर्य समाज के कार्यक्रम में झाबुआ पहुंचे नागालैंड के राज्यपाल, स्थानीय रीति-रिवाजों से हुआ स्वागत

झाबुआ। अखिल भारतीय दयानंद सेवाश्रम संघ की थांदला शाखा के 50 वर्ष पूरे होने पर झाबुआ में तीन दिवसीय स्वर्ण जयंती का आयोजन किया जा रहा है. जिसमें मुख्य अथिति के रूप में नागालैंड के राज्यपाल पीवी आचार्य शामिल हुए. पहले दिन वैदिक सम्मेलन में विद्वान आर्य वक्ताओं ने आर्य समाज के कार्यप्रणाली के बारे में अपने विचार रखे और लोगों को संबोधित किया.

आर्य समाज के कार्यक्रम की शुरुआत करते नागालैंड के राज्यपाल पीवी आचार्य।


आयोजन में मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे नागालैंड के राज्यपाल का स्थानीय रीति-रिवाजों से स्वागत किया गया. राज्यपाल पीवी आचार्य को आदिवासी रीतियों के अनुसार झुलडी, तीर कमान और चांदी का कड़ा पहनाया गया. उन्होंने कार्यक्रम को सराहनीय बताते हुये आदिवासी संस्कृति की जमकर सराहना की.
पढ़ेंः सूर्य नमस्कार के दौरान कांग्रेस नेता प्रदीप सक्सेना को सीने में हुआ दर्द, डॉक्टरों ने मृत घोषित किया
गौरतलब है कि झाबुआ जिले में आर्य समाज द्वारा थांदला में शैक्षणिक संस्था संचालित किया जा रहा है. संस्था का उद्देश्य वैदिक, पौराणिक ज्ञान का प्रचार कर उसके प्रति लोगों को जागरुक करना है. आर्य समाज का कहना है कि सांप्रदायिकता के चलते देश का विघटन होता जा रहा है. ऐसे में देश को एकता में बांधने के लिये जरूरी कदम उठाये जाने चाहिए. सम्मेलन में आर्य वेदों को जीवन में उतारने का आह्वान वैदिक सम्मेलन में किया गया.

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  गैलरी

  टूरिज़्म

  MAJOR CITIES