• A
  • A
  • A
सीएम कमलनाथ पातालकोट को बनायेंगे जैव विविधता विरासत स्थल, नोटिफिकेशन जारी

भोपाल। भाजपा सरकार के समय से फाईलों में दबे छिंदवाड़ा जिले के प्रसिध्द प्राकृतिक स्थल पातालकोट को जैव विविधता विरासत स्थल बनाने के प्रस्ताव को सीएम कमलनाथ ने हरी झंडी दिखा दी है. वन विभाग ने इस संबंध में अधिसूचना भी जारी कर दी है.

पातालकोट।


अनोखा भू-भाग है पातलकोट
पातालकोट छिंदवाड़ा का एक पर्यटक स्थल है, जो कि 1700 फीट गहरी घाटी में बसा हुआ है. इतनी गहराई में छिपे होने की वजह से यह कई सालों तक लोगों से छिपा रहा. पातलकोट वन विभाग के संरक्षित वन क्षेत्र में 8 हजार 367.49 हेक्टेयर में फैला हुआ है. अनुमान के अनुसार यह 6 मिलियन साल पुरानी घाटी है, जिसमें दुर्लभ वानस्पति भी मिलती है, जिनमें ब्रायोफाइटस और टेरिडोफाइटस शामिल हैं. यहां मौजूद बायोडायवर्सिटि के कारण ऐसे क्षेत्र को विरासत स्थल के रुप में संरक्षित और सुरक्षित किया जाना जरूरी है.
पढ़ेंःखिलाड़ियों की प्रतिभा निखारने की पहल, राज्य स्तरीय वॉलीबॉल मैच का आयोजन
प्रस्ताव के मुताबिक यह काम किए जाएंगे
वन विभाग की अधिसूचना में कहा गया है कि पातालकोट के पूर्व वन मंडल छिंदवाड़ा की फॉरेस्ट बीट छिन्दी के 4 हजार 305.25 हेक्टेयर और पश्चिम वनमंडल छिंदवाड़ा की फॉरेस्ट बीट तामिया के 4 हजार 62.24 हेक्टेयर क्षेत्र को जैव विधिता विरासत स्थल के रूप में घोषित किया जायेगा. विरासत स्थल बनने पर मप्र राज्य जैव विधिता मण्डल वन विभाग के सहयोग से तीन काम करेगा. इन कामें में जैव विधिता विरासत स्थल की प्राकृतिक वनस्पतियों और जानवरों के संरक्षण के लिए उचित प्रबंध किए जाएंगे. संरक्षण के लिये वन विभाग, पारिस्थितिकीय पर्यटन कार्यक्रम, वनवासियों और पातालकोट में रहने वाले आदिवासियों के लिए क्षमता निर्माण कार्यक्रम बनाए जाएंगे. साथ ही प्रजातियों के आंतरीक और बाहरी संरक्षण के लिये प्रजातियों की वंशवृध्दि की जाएगी.

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  गैलरी

  टूरिज़्म

  MAJOR CITIES