• A
  • A
  • A
मकर संक्रांति विशेष : खिचड़ी के चार यार, दही, पापड़, घी, अचार

पटना। मकर संक्रांति पर जहां बिहार के ज्यादातर क्षेत्रों में चूड़ा- दही खाने की परंपरा है, वहीं इस अवसर पर लजीज खिचड़ी खाने और खिलाने का चलन भी है। खिचड़ी कहीं मंदिर का प्रसाद होता है तो कहीं गरीबों का भोजन। खिचड़ी के बारे में एक प्रचलित कहावत भी है- खिचड़ी के चार यार दही, पापड़, घी, आचार।

लजीज खिचड़ी बना स्टेटस सिंबल


यानी, जब बढ़िया दही, शुद्ध घी, लजीज मसालेदार पापड़ और बेहतरीन आचार के साथ जब खिचड़ी परोसी जाती है, तब यह न प्रसाद होती है, न गरीब का भोजन, बल्कि ऐसी खिचड़ी स्टेटस सिंबल बन जाती है। अपने चारों यार के साथ थाली में आयी ऐसी खिचड़ी मेजबान की हैसियत बताने वाली होती है।


राजनीति से भी है खिचड़ी का नाता
1970 के दशक में, जब डा जयप्रकाश नारायण और लोहिया के नेतृत्व में गैर- कांग्रेसवाद की राजनीति तेज हुई, उस दौर में भी खिचड़ी ने शब्द मात्र से अपनी मजबूत जगह राजनीति में बनायी। तब कई राज्यों में विपक्षी दलों की मिली- जुली सरकारें बनीं थी। जिसे खिचड़ी सरकार की संज्ञा से नवाजा गया। सदियों पुराने भोजन खिचड़ी का राजनीतिकरण का दौर भी शायद यहीं से शुरू हुआ।

स्वास्थ्यवर्धक होता है खिचड़ी
हालांकि आयुर्वेदिक चिकित्सक वैद्य रंजन कुमार का मानना है कि आसानी से पकने और जल्दी पचने वाली खिचड़ी ऐसा आहार है, जो शरीर में विद्यमान वात, पित्त और कफ के संतुलन को बनाने में सहायक होता है। खिचड़ी शरीर में बनने वाले हानिकर रसायन को बेअसर करने वाला भोजन है।

यह भी पढ़ें: जानें स्नान-दान का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और पर्व का महत्व

सरकार ने सुपर फूड के तौर पर परोसा
भोजन के रूप में खिचड़ी एक देसी फास्ट फूड है। भारत सरकार ने ग्लोबल फूड एक्सपो द्वारा आयोजित वर्ल्ड फूड इंडिया- 2017 में इसे देश की ओर से सुपर फूड के रूप में पेश किया था. पिछले साल आयोजित इस कार्यक्रम में केंद्र सरकार ने खिचड़ी को भारत का सुपर फूड और क्वीन ऑफ़ आल फूड के रूप में दुनिया के समक्ष परोसा। दाल और चावल को सामान अनुपात में मिलाकर आसानी से पकने वाली खिचड़ी के महत्व को ध्यान में रखकर ही शायद इसे धार्मिक- सांस्कृतिक रूप दिया गया है।

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  सहेली

  गैलरी

  टूरिज़्म

  اردو خبریں

  ଓଡିଆ ନ୍ୟୁଜ

  ગુજરાતી ન્યૂઝ

  MAJOR CITIES