• A
  • A
  • A
अब जागी बिहार सरकार, जब प्रदूषण की हो गई हद पार

पटना: राजधानी में रिकॉर्ड तोड़ प्रदूषण के बाद सरकार हरकत में आ गई. इसके चलते सरकारी और गैर सरकारी काम करने वाली कंस्ट्रक्शन कंपनी भारी जुर्माना लगेगा. नीतीश सरकार ने इसके लिए फरमान जारी कर दिया है.

मुख्य सचिव दीपक कुमार.


मुख्य सचिव दीपक कुमार की अध्यक्षता में पटना में बढ़ रहे प्रदूषण को लेकर के कई उच्च स्तरीय बैठक के बाद महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए. मुख्य सचिव दीपक कुमार ने बताया कि कंस्ट्रक्शन काम के कारण जगह-जगह पर धूल उड़ा रहे कंपनियों पर जुर्माना ठोका जाएगा.
उन्होंने बताया कि नगर विकास विभाग ने इसके लिए गाइडलाइन जारी की है. जहां भी निर्माण कार्य चल रहा है, वहां पर पानी का छिड़काव और निर्माण स्थल को ढ़क कर काम किया जाए, नहीं तो नगर निगम भारी जुर्माना खुलेगी.
यह भी पढ़ें- अमीन बहाली मामला: 2013 में बने नियमावली को पटना HC ने किया रद्द
मुख्य सचिव ने कहा सड़क निर्माण कार्यों के जगहों पर डायवर्सन को चौड़ा करने की बहुत जरूरत है. उन्होंने आर ब्लॉक का उदाहरण देते हुए कहा कि लोगों को अपनी गाड़ियों को लेकर के आने-जाने में काफी कठिनाइयां हो रही है.
गौरतलब है कि पिछले कई महीनों से पटना का प्रदूषण स्तर देश में सबसे ऊपर रहा है. जिसके कारण सरकार की चिंता बढ़ गई है. मुख्य सचिव दीपक कुमार ने निर्देश देते हुए कहा है कि अब खुले में खाद्य पदार्थ बेचने वाले को सरकार मदद करेगी.
उन्होंने कहा कि सड़कों के किनारे ठेलो पर खाद्य सामान बेचने वालों को शीशा बंद करने के लिए सहायता दी जाएगी. ताकि, खाने के सामानों पर किसी तरह का धूल या गंदगी ना पड़े. उन्होंने धुआं फेंकती हुई गाड़ियों पर भी नकेल कसने का परिवहन विभाग को निर्देश दिया है.
परिवहन विभाग को खतरनाक धुआं उगलती गाड़ियों पर नकेल कसने के लिए फ्लाइंग स्क्वायड टीम का गठन करने का आदेश दिया है. जो चौक चौराहे पर गाड़ियों के प्रदुषण की जांच करेगा.

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  गैलरी

  टूरिज़्म

  ASSEMBLY ELECTIONS 2018

  MAJOR CITIES