• A
  • A
  • A
हजारीबाग की NTPC ने कायम किया नया रिकॉर्ड, भेजे 2 हजार कोयला रैक

हजारीबाग: भारत सरकार की नवरत्न कंपनी में से एक एनटीपीसी के पकरी बरवाडीह इकाई ने कोयला ढुलाई में रिकॉर्ड बनाया है. जिसने शनिवार को 2000 कोयला रैक भेज कर कीर्तिमान स्थापित किया है. 2000 कोयला का रैक हजारीबाग रेलवे स्टेशन से रवाना किया गया. एनटीपीसी के सीजीएम पार्थ मजूमदार ने हरी झंडी दिखाकर रैक को रवाना किया.

NTPC ने रवाना किया दो हजार कोयला का रैक।


12 जनवरी 2019 एनटीपीसी के लिए ऐतिहासिक दिन रहा. जिसने पकरी बरवाडीह कोयला खनन परियोजना से उत्पादित कोयला की दो हजार रैक रेलवे स्टेशन से रवाना किया. 2000 कोयले की रैक के साथ पकरी बरवाडीह कोयला खनन परियोजना ने अब तक 7. 5 मिलियन मीट्रिक टन कोयला हजारीबाग रेलवे स्टेशन से ढुलाई पूरी कर ली है.
कई जगहों पर भेजी जाती हैं यहां से कोयला
16 फरवरी 2017 को कोयले की प्रथम रैक रवाना की गई थी. इस परियोजना से उत्पादित कोयला एनटीपीसी की विभिन्न परियोजनाओं जैसे बाढ़, मौदा, सोलापुर, बोंगाईगांव, गदरवारा, कुंडली, सीपत आदि को दिया जाता है. अगर बात की जाए कोयला ढुलाई की तो यहां की कोयला आसाम के लुगाई, महाराष्ट्र के अलावा बिहार के बाढ़, मध्य प्रदेश आदि जगहों पर भेजी जाती है.

NTPC के बड़े आला अधिकारी ने दी शुभकामनाएं इस दौरान हजारीबाग रेलवे स्टेशन से दिल्ली से बैठे एनटीपीसी के बड़े आला अधिकारी कार्यक्रम में ऑनलाइन जुड़े. डायरेक्टर कमर्शियल एके गुप्ता ने अपने संबोधन में दिल्ली से कहा कि यह एनटीपीसी के लिए काफी महत्वपूर्ण है. क्योंकि यहां का कोयला विभिन्न ऊर्जा उत्पादन केंद्रों को जाता है. उन्होंने अपने संबोधन में हजारीबाग में कार्यरत एनटीपीसी के कर्मचारियों को भी शुभकामना दी और आभार जताया.

समस्याओं का भी समाधान वहीं, एनटीपीसी के सीजीएम पार्थ मजूमदार ने कहा कि ये दिन एनटीपीसी हजारीबाग के लिए काफी महत्वपूर्ण है, जिसने लक्ष्य पूरा किया है. साथ ही उन्होंने कोयला उत्पादन में हो रही समस्या का भी जिक्र किया और कहा कि ग्रामीणों से बात करके उन समस्याओं का भी समाधान कर लिया जाएगा.
ये भी पढ़ें- सूबे की सरकार के खिलाफ फिर बढ़ा पारा शिक्षकों का आक्रोश, अमित शाह से करेंगे मुलाकात
ग्रामीणों को विश्वास में लेना महत्वपूर्ण होगा बता दें कि एनटीपीसी इन दिनों हजारीबाग में भूमि अधिग्रहण को लेकर काफी अधिक विवादों में चल रहा है. जहां ग्रामीणों ने एनटीपीसी के खिलाफ मुहिम छेड़ रखा है और जमीन नहीं देने की बात कर रही है. ऐसे में एनटीपीसी के लिए ग्रामीणों को विश्वास में लेना महत्वपूर्ण होगा.

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  गैलरी

  टूरिज़्म

  ASSEMBLY ELECTIONS 2018

  MAJOR CITIES