• A
  • A
  • A
RTI का खुलासा: रक्षक बने चोर? पुलिस के इन बूथों पर जलता है बल्ब पर नहीं देते बिजली बिल

नई दिल्ली: राजधानी में दिल्ली पुलिस की चौकियों को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है. ये मामला आरटीआई द्वारा सामने आया है. जानिए आखिर क्या है ये खुलासा, पढे़ं पूरी खबर...

देखें वीडियो।


दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में बनी 253 पुलिस बूथ और चौकियों में कहीं चोरी से बिजली चलाई जा रही है तो कहीं अन्य लोग पुलिस विभाग के उपयोग की गई बिजली का भुगतान कर रहे हैं.


यह मामला बेहद चौंकाने वाला है जहां बिजली चोरी में आम व्यक्ति पर शिकंजा कसा जाता है तो उसे दंडित किया जाता है, लेकिन दिल्ली पुलिस जब खुद सरकारी विभाग को चूना लगाने में लगी है तो इसका भुगतान कौन करेगा. पब्लिक प्रोटेक्शन मूवमेन्ट आर्गेनाइजेशन के निदेशक जीशान हैदर द्वारा लगाई एक आरटीआई से मिली जानकारी के अनुसार 253 पुलिस बूथ और चौकी हैं. जिसमें सबसे ज्यादा साउथ जिले में चौकी और बूथ हैं इनमें 72 बूथ और चौकियां हैं, जिसमें सिर्फ और सिर्फ 6 बिजली के कनेक्शन लिए गए हैं. बाकी जगह चोरी से बिजली जल रही है लेकिन सवाल है कि बिजली विभाग के आला अधिकारी पुलिस विभाग पर कार्रवाई करने से आखिर क्यों डर रहे हैं.

ये भी पढ़ें : अग्निदेव ने मचाया तांडव! 12 घंटों के अंदर लगी दो जगह भीषण आग, देखें वीडियो
आईआईटी दिल्ली कर रही भुगतान
इस मामले में सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि साउथ वेस्ट जिले में 47 पुलिस बूथ और चौकियां हैं, जिनमें से सिर्फ 3 के बिजली के कनेक्शन हैं. वहीं अहम बात है कि इन 3 बिजली के मीटरों का भुगतान आईआईटी दिल्ली कर रही है. इसी तरह अन्य जगह पर भी पुलिस विभाग द्वारा उपयोग की गई बिजली का भुगतान कोई और दे रहा है.


इन 2 जिलों में नहीं है एक भी मीटर
आरटीआई से मिली जानकारी के अनुसार दिल्ली आईजीआई एयरपोर्ट इलाके में 9 पुलिस पोस्ट बने हुए हैं जिसमें एक में भी मीटर नहीं लगा हुआ है इसी के साथ उत्तम नगर जिले में अभी 5 पुलिस पोस्ट बने हुए हैं, जहां चोरी से बिजली का उपयोग किया जा रहा है और बिजली विभाग को अनदेखा कर राजस्व को चूना लगाया जा रहा है.



CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  सहेली

  गैलरी

  टूरिज़्म

  ASSEMBLY ELECTIONS 2018

  MAJOR CITIES