• A
  • A
  • A
NGT ने लगाई फटकार! पूछा- याचिका दायर करने के लिए पैसे कहां से आ रहे हैं

नई दिल्ली: नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने बड़ी संख्या में याचिकाओं को दाखिल करने वाले एक याचिकाकर्ता को फटकार लगाई और पूछा कि इतनी याचिकाओं को दायर करने के लिए पैसे कहां से आ रहे हैं.

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT)


एनजीटी चेयरपर्सन जस्टिस आदर्श कुमार गोयल ने याचिकाकर्ता को निर्देश दिया कि एक हफ्ते के अंदर आप याचिका दायर करने के लिए धन के स्रोत के बारे में बताएं.
एनजीटी ने लगाई फटकार
एनजीटी ने कहा कि सामाजिक सरोकार रखने वाला कोई भी व्यक्ति जनहित याचिका दायर कर सकता है लेकिन उस याचिका में व्यक्तिगत लाभ की इच्छा नहीं होनी चाहिए. इसलिए कोटा ट्रिब्यूनल को ऐसी याचिकाओं और ऐसी याचिका दायर करने वाले लोगों की तहकीकात करनी चाहिए.

दरअसल शैलेश सिंह नामक एक व्यक्ति ने बलरामपुर चीनी मिल्स लिमिटेड को बंद करने के लिए याचिका दायर की थी. चीनी मिल को बंद करने के लिए याचिका में बढ़ते प्रदूषण को आधार बनाया गया था.
पढ़ें-लेडी गैंग का कारनामा: मदद के बहाने घर में दाखिल हो उड़ा लेते हैं लाखों का सामान
धन-स्त्रोत के बारे में पूछा एनजीटी ने याचिकाकर्ता को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर उन्होंने याचिका दायर करने के लिए धन के स्रोत का ब्यौरा नहीं दिया तो वे उन्हें ऐसी याचिकाएं दायर करने से भविष्य में रोक लगा सकता है.

याचिकाकर्ता ने अपनी जनहित याचिका में कहा था कि वो एक पत्रकार है और उसका लोगों से सरोकार है इसलिए ये जनहित याचिका दायर कर रहा है.

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  गैलरी

  टूरिज़्म

  ASSEMBLY ELECTIONS 2018

  MAJOR CITIES