• A
  • A
  • A
स्पेशल एरिया भी सीलिंग के चपेट में, दुकानदारों ने कहा आप को अधिकार नहीं

नई दिल्ली। राजधानी में कई ऐसे मुद्दे हैं जिनके कारण यहां की राजनीति गरमायी हुई है। आजकल जो मुद्दा सबसे ज्यादा तूल ले रहा है, वह है सीलिंग का। MCD द्वारा धड़ल्ले से हो रही सीलिंग का भय दुकानदारों के मन बुरी तरह छाया हुआ है।

प्रतीकात्मक फोटो।


उतरी दिल्ली नगर निगम ने दिल्ली की पुराना मार्केट सदर बाजार इलाके में भी कई दुकानदारों को नोटिस दिया है, जिसमें दुकानदारों को कन्वर्जन चार्ज जमा करने को कहा गया है। साथ ही ये चेतावनी भी दी गई है कि कन्वर्जन चार्ज नहीं जमा किया तो एक्शन लिया जाएगा, जिसमें सीलिंग भी शामिल है।


दुकानदारों का कहना है कि इस इलाके में एमसीडी सीलिंग कैसे कर सकती है, क्योंकि सदर बाजार का एरिया दिल्ली के स्पेशल एरिया में आता है जहां से कनवर्जन चार्ज नहीं लिया जा सकता है। ट्रेडर एसोसिएशन के अध्यक्ष नरेन्द्र गुप्ता ने कहा, सदर बाजार काफी पुराना है जहां कोई नया कंसट्रक्शन नहीं है। तो फिर एमसीडी कैसे कनवर्जन चार्ज ले सकती है। अब इनका कहना है कि अगर मामला ज्यादा बढ़ता है तो वो इस मामले को एमसीडी नेताओं से मिलकर बात करेंगे।

वक्त से पहले नोटिस
केंद्र सरकार के एक आदेश के बाद मिक्सलैंड यूज या कॉमर्शियल सड़कों पर चल रही दुकानों और कारोबारी गतिविधियां चलाने वालों को 15 जनवरी तक कन्वर्जन आदि शुल्क जमा कराने की छूट दी गई है, लेकिन इसके बावजूद नॉर्थ एमसीडी के बिल्डिंग विभाग ने दुकानदारों को यह चार्ज जमा कराने के नोटिस जारी कर दिए हैं। अभी हाल ही में चांदनी चौक की गलियों तक में नोटिस जारी कर दिए गए थे। अब एरिया की सबसे बड़ी मार्केट सदर बाजार के दुकानदारों को नोटिस जारी कर दिए गए हैं। नोटिस में कहा गया है कि वे तीन दिन के भीतर अपना कन्वर्जन चार्ज आदि जमा कराएं, वरना उनके खिलाफ एक्शन किया जाएगा, इसमें सीलिंग भी शामिल है।

पढ़ें - गजब: बदल गई चोरों की पसंद, अब रूपये-गहने नहीं, फिरौती में ये मांग रहे बदमाश...

स्पेशल एरिया से नो कन्वर्जन चार्ज
ट्रेडर एसोसिएशन के अध्यक्ष नरेन्द्र गुप्ता ने कहा है कि दस साल पहले भी सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर बाजार में सीलिंग की गई थी। मास्टर प्लान-2021 पुरानी दिल्ली के चांदनी चौक, सदर-पहाड़गंज जोन को स्पेशल एरिया घोषित किया गया है, जिसके तहत एमसीडी इन इलाकों से कन्वर्जन चार्ज नहीं ले सकते हैं।

कन्वर्जन चार्ज सबको देना होगा
एमसीडी सूत्रों के मुताबिक, कन्वर्जन चार्ज तो सबको देना होगा, लेकिन पुराने इलाके की होने की वजह से कुछ छूट दी गई है, जिसके मुताबिक 1962 से पहले दुकान होने पर कोई चार्ज नहीं देना पड़ेगा। इसलिए अगर नोटिस दिया गया है कि इसका मतलब कोई भी दुकानदार अगर छूट का अधिकारी बनना है तो फिर लोगों को ये साबित करना होगा कि दुकान 1962 से पहले के हैं, नहीं तो चार्ज देना होगा।

पढ़ें -
ऑटो वाला बाबू करे बदमाशी तो दबाइये पैनिक बटन

दूसरी ओर सूत्र बताते हैं कि नॉर्थ एमसीडी अधिकारी 15 जनवरी तक का इंतजार कर रहे हैं। इस तिथि तक पुरानी दिल्ली के जिस भी दुकानदार ने कन्वर्जन चार्ज जमा करा दिया है तो उसे बख्श दिया जाएगा, लेकिन उसके बाद बिना नोटिस दिए दुकानों को सील करने की कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी। तो वही मार्केट एसोसिएशन ने कहा कि इस मसले को लेकर लोग एमसीडी नेताओं से बात करेगें कि आखिर स्पेशल एरिया इलाके में कैसे कन्वर्जन चार्ज ले सकते हैं।


CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.