• A
  • A
  • A
राष्ट्रपति भवन पहुंची 'दादी की रसोई', 5 रूपये में देशी घी से बना स्वादिष्ट भोजन है पहचान!

नई दिल्ली/नोएडा। एनसीआर में दादी रसोई एक ऐसा भोजनालय है जो सिर्फ 5 रूपये में भरपेट खाना खिलाता है। वो भी देशी घी में। यह रसोई अगस्त 2015 से चल रही है। अब इसे रसोई को एक बड़ी उपलब्धि हाथ लगी है।

डिजाइन फोटो।


दादी की रसोई का राष्ट्रपति भवन में प्रेजेंटेशन के लिए आमंत्रित किया गया था। देशभर की 9 संस्थाओं के नुमाइंदों को राष्ट्रपति भवन में आमंत्रित किया गया। नोएडा से अकेले दादी की रसोई को बुलाया गया। इनके प्रेजेंटेशन को राष्ट्रपति भवन में भी जमकर सराहा गया है।

पढ़ें:
BJP-CONG के खुलासों से AAP पस्त! माकन-गुप्ता के खिलाफ रणनीति बनाने में जुटे केजरीवाल


2015 से चल रही है रसोई

समाजसेवी अनूप खन्ना ने सेक्टर 29 के गंगा शॉपिंग कॉम्पलेक्स के प्रांगण में दादी की रसोई नामक संस्था को 2015 से संचालित कर रहे हैं। यहां 5 रूपये में भरपेट भोजन उपलब्ध कराया जाता है। एक भगोने और 50 लोगों को खाना खिलाने से शुरू हुई दादी की रसोई के कंसेप्ट पर पूरे देश में 40 से अधिक जगह इस तरह के प्रयास किए जा रहे हैं।

पढ़ें:
वापस लौटा जानलेवा तूफान, छाया भयानक अंधेरा! घर से निकलने में बरतें सावधानी

रोहतक में भी शुरू
अनूप खन्ना ने बताया कि हाल ही में रोहतक में दादी की रसोई का संचालन शुरू हुआ है। राष्ट्रपति भवन में देशभर कि कुल 9 संस्थाओं को आमंत्रित किया गया था। इनमें अक्षय पात्रा फीडिंग इंडिया जैसी संस्थाओं के नाम शामिल हैं। अनूप खन्ना ने बताया कि नोएडा से दादी की रसोई पहली ऐसी संस्था है जिसे यह सम्मान मिला। राष्ट्रपति भवन में इन्हें और उनकी धर्मपत्नी श्रीमती निर्मल खन्ना को सहभोज भी दिया गया। उन्होंने बताया कि वहां 15 मिनट का समय मिला, जिसमें दादी की रसोई के बारे में जानकारी देने को कहा गया। उन्होंने संस्था के बारे में सब कुछ लोगों के बीच में शेयर किया। उन्होंने कहा कि यदि बड़ा काम करना है तो छोटी शुरूआत करनी होगी। अपने आप कारवां बनता चला जाता है। लेकिन इसके लिए अपने अंदर जुनून पैदा करना होगा। जो जहां है वहीं से इसकी पहल करे।

पढ़ें:
गाड़ियों से लटकती लाशें-सड़क पर बिखरा खून! 50 राउंड फायरिंग में ढेर हुआ 'भारती' गैंग

मां की सलाह पर शुरू किया था रसोई

इस अवसर पर राष्ट्रपति के सचिव संजय कोठारी, ज्वाइंट डायरेक्टर अंजलि बख्शी, ओएसडी प्रवीण सिद्धार्थ गौरी कुमार भी मौजूद थे। उन्होंने कहा कि ये दिन उनके जीवन का बहुत महत्वपूर्ण दिन है। उन्होंने 3 साल पहले अपनी माता श्रीमती सरोजनी खन्ना की सलाह पर दादी की रसोई शुरू की थी। अनूप खन्ना नोएडा केमिस्ट एसोसिएशन के साथ ही कई संस्थाओं से जुड़े रहे हैं।

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  सहेली

  गैलरी

  टूरिज़्म

  ASSEMBLY ELECTIONS 2018

  MAJOR CITIES