• A
  • A
  • A
दुष्यंत का 'बैकडोर प्लान' तैयार, टेकराम कंडेला के जरिए जींद की जंग जीतेगी JJP!

जींद: उपचुनाव का काउंटडाउन जितनी तेजी से घट रहा है उतनी ही तेजी से सियासी समीकरण बदलते नजर आ रहे हैं. सभी राजनीतिक पार्टियों की नजर बीजेपी नेता टेकराम कंडेला पर टिकी हैं. कंडेला उपचुनाव में तुरुप का पत्ता साबित हो सकते हैं.

दुष्यंत चौटाला ने टेकराम कंडेला से मुलाकात की.


शायद यही वजह रही कि सांसद दुष्यंत चौटाला ने देर रात टेकराम कंडेला से उनके आवास पर मुलाकात की. दुष्यंत चौटाला ने टेकराम कंडेला से जननायक जनता पार्टी के लिए समर्थन मांगा.
इससे पहले कांग्रेस से उम्मीदवार रणदीप सुरजेवाला भी टेकराम कंडेला से मुलाकात कर चुके हैं. टेकराम कंडेला ने 16 जनवरी को समर्थकों की बैठक बुलाई है. बैठक में कंडेला चुनाव को लेकर बड़ा फैसला ले सकते हैं.
ये है सियासी कहानी
बता दें कि साल 2014 का विधानसभा चुनाव कंडेला ने जींद से निर्दलीय टिकट पर लड़ा था. इनेलो के उम्मीदवार हरिचंद मिड्ढा ने उनको मजह 22 सौ वोटों से मात दी थी. टेकराम कंडेला को 11 हजार के करीब वोट मिली थीं. जिसके बाद कंडेला बीजेपी में शामिल हो गए थे.

चुनाव में आएगी पारदर्शिता! वीवीपैट से होंगे लोकसभा और विधानसभा चुनाव, 7 सेकंड तक मतदाता देख सकेंगे अपना वोट

इस बार कंडेला बीजेपी की तरफ से उपचुनाव के लिए उम्मीदवार माने जा रहे थे. लेकिन स्वर्गीय हरिचंद मिड्ढा के बेटे कृष्ण मिड्ढा बीजेपी में शामिल हो गए. जिसके बाद बीजेपी ने टेकराम कंडेला को दरकिनार करते हुए कृष्ण मिड्ढा को जींद उपचुनाव के लिए टिकट दे दी.
खबरों के मुताबिक इस बात को लेकर टेकराम कंडेला बीजेपी से नाराज चल रहे हैं. इसलिए सभी राजनीतिक दलों की नजर उनपर बनी हुई है. जींद उपचुनाव में टेकराम तुरुप का इक्का साबित हो सकते हैं.


CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  गैलरी

  टूरिज़्म

  MAJOR CITIES