• A
  • A
  • A
64 साल के हुए विधानसभा अध्यक्ष राजीव बिंदल, ऐसा रहा राजनीतिक सफर

नाहनः विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल आज 64 साल के हो गए हैं. 12 जनवरी 1955 को जन्मे बिंदल का आज नाहन बीजेपी नेताओं व कार्यकर्ताओं सहित महिला मोर्चा ने जिला मुख्यालय में धूमधाम के साथ जन्मदिन मनाया.

विस अध्यक्ष राजीव बिंदल. वीडियो- नाहन में जन्मदिन मनाते कार्यकर्ता.


उनके जन्मदिन के मौके पर नाहन भाजपा मंडल के अध्यक्ष दीनदयाल वर्मा के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने नाहन मेडिकल कॉलेज व आर्युवेदिक अस्पताल में मरीजों को फल वितरित किए. साथ ही मेडिकल कॉलेज के बाहर हलवा बांट कर डॉ. बिंदल का जन्मदिन मनाया. इस मौके पर मंडल अध्यक्ष ने डॉ. बिंदल को जन्मदिन की बधाई देते हुए उनकी लंबी आयु की कामना की.

बिंदल भाजपा के वरिष्ठ नेता और वर्तमान में विधानसभा अध्यक्ष हैं. वो भाजपा के बड़े नेता के तौर पर अपनी पहचान रखते हैं. बिंदल नाहन विधानसभा सीट से विधायक हैं. इससे पूर्व में तीन बार विधायक और हिमाचल सरकार में स्वास्थ्य मंत्री भी रहे.

ऐसा रहा डॉ. बिंदल का राजनीतिक सफर
राजीव बिंदल का राजनीतिक सफर भी काफी लंबा व रोचक रहा है. एक आम कार्यकर्ता से लेकर बिंदल ने 24 साल में विधानसभा अध्यक्ष तक का सफर तय किया है. अपने जवानी के दिनों में बिंदल ने 1975 में इमरजेंसी के दौरान साढे़ चार महीने तक करनाल की जेल में बंद रहे. साल 1983 में पैतृक शहर सोलन में बिंदल ने चिकित्सा कार्य शुरू किया. इसी दौरान उन्होंने हिमगिरि कल्याण आश्रम संस्था का गठन भी किया.

निर्धन व अभावग्रस्त बच्चों की सेवा करने वाली इस संस्था में लगातार 20 साल तक कार्य करते रहे. इसके बाद 1995 में पहली बार राजनीतिक जीवन में कदम रखा. 1995 से 2000 तक सोलन नगर परिषद के अध्यक्ष पद पर रहने के बाद विधानसभा में पहली पारी 2000 में शुरू की. पांच साल तक नगर परिषद अध्यक्ष रहने के बाद 2000 में उप चुनाव जीता.

उपचुनाव जीतते ही प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का दायित्व मिल गया. इसके बाद 2003 में सोलन हलके से दूसरी बार विधायक बने. 2007 में चुनाव जीतने की हैट्रिक बना ली. बिंदल धूमल सरकार में स्वास्थ्य मंत्री भी रहे. डि-लिमिटेशन के बाद नाहन विधानसभा में बीजेपी के टिकट पर चौथा चुनाव जीता.
पढ़ेंः विश्व कवि की शिमला स्मृतियों पर जमी अनदेखी की मोटी परत, खंडहर हो रही टैगोर की रचनास्थली
2017 में नाहन से दूसरी बार चुनाव जीत गए और विधानसभा अध्यक्ष पद पर विराजमान हुए. इसके अलावा संगठनात्मक कौशल व अनुभव की वजह से पार्टी ने उन्हें हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, जम्मू-कश्मीर चुनाव में कई बार महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां भी सौंपी. अब वर्तमान में बतौर विधानसभा अध्यक्ष नाहन विधानसभा क्षेत्र के लिए कई महत्वाकांशी योजनाओं को पूरा करवाने में लगे हुए हैं. इसमें पुलों का निर्माण व नाहन पेयजल योजना अहम है.

बिंदल के बारे में ये भी जानिए
राजीव बिंदल बीजेपी शीर्ष नेतृत्व में कुशल प्रबंधक के तौर पर भी पहचान रखते है. डॉ. राजीव बिंदल का नामी वैद्य व समाजसेवी बाल मुकन्द के घर 12 जनवरी 1955 को हुआ था. बिंदल ने अपने बेटे को राजनीति की तरफ प्रेरित नहीं किया, बल्कि बेटा डॉ. विवेक बिंदल आज देश के विख्यात रॉबोटिक सर्जन के नाम पर अपनी पहचान रखते हैं.

पुत्रवधू डॉ. उषा बिंदल भी मेडिकल कॉलेज की सहायक प्रोफेसर हैं. बेटी व दामाद रेडियोलॉजी विषय के विशेषज्ञ हैं. साफ है कि परिवार की पूरी पृष्ठभूमि चिकित्सा के क्षेत्र से ही जुड़ी हुई है. बिंदल की पत्नी मधु बिंदल भी अपने पति का साथ बखूबी निभाती आ रही है. साल 1978 में बिंदल ने आयुर्वेदाचार्य की डिग्री हासिल की. संघ के प्रचारक के रूप में आदिवासी क्षेत्रों में भी कार्य करने का निर्णय लिया था. करीब अढ़ाई साल तक झारखंड में ही निशुल्क चिकित्सालय का नेतृत्व करते रहे.
ये भी पढ़ेंः दुनियाभर में 5G की कवायद! लाहौल घाटी में 2G इंटरनेट सुविधा भी ठप, OFC बिछाने में लापरवाही

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  गैलरी

  टूरिज़्म

  ASSEMBLY ELECTIONS 2018

  MAJOR CITIES