• A
  • A
  • A
गोरखपुर महोत्सव में शारदा सिन्हा ने समा बांधा

गोरखपुर : गोरखपुर महोत्सव के मंच से शनिवार को अपने लोकगीत और संगीत से समा बांधने भोजपुरी की लता मंगेशकर शारदा सिन्हा पहुंची. उन्होंने ईटीवी भारत से खास बातचीत में कहा कि भोजपुरी में जो मिठास है, उसको कायम करने के लिए अवेयरनेस बढ़ाने की जरूरत है. इसमें फूहड़ता परोसकर कुछ लोग इसे गंदा कर चुके हैं.

भोजपुरी गायक शारदा सिन्हा.


शारदा सिन्हा ने सबसे पहले बाबा गोरखनाथ की धरती को प्रणाम किया और कहा कि करीब 20 साल पहले उनका यहां आना हुआ था. उन्होंने कहा कि अपनी सभ्यता, अपने संगीत को बचाकर रखना अच्छे संस्कार वालों के बस में है, जो रिश्तों की कद्र करेगा वह अच्छे गीत पेश करेगा. इस दौरान उन्होंने एक मशहूर गीत की चंद लाइने गुनगुनाई और ईटीवी भारत को धन्यवाद दिया.
पढ़ें- बुआ-बबुआ ने छोड़ी राहुल-सोनिया की सीटें, 76 सीटों पर लड़ेंगे चुनाव
शारदा सिन्हा ने कहा कि कला का महत्व अगर कलाकार नहीं करेगा, तो फिर कला टिकेगी कैसे. यही वजह है कि लोक कलाओं और गीतों का दौर थमता सा दिखाई दे रहा है. उन्होंने आने वाली युवा पीढ़ी को अपनी बोली, भाषा, संस्कार और मर्यादा के प्रति जागरूक रहने की अपील की, जिससे भारतीय परंपरा कायम रह सके.



CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  गैलरी

  टूरिज़्म

  MAJOR CITIES