• A
  • A
  • A
SMS अस्पताल अधीक्षक का तुगलकी फरमान, बौखलाए मंत्री के निर्देश पर मीडिया बैन !

जयपुर। एसएमएस अस्पताल अधीक्षक डॉ. डीएस मीणा ने एक तुगलकी फरमान जारी करते हुए मीडिया की आजादी से खिलवाड़ करने की कोशिश की है। डॉ. डीएस मीणा ने एसएमएस अस्पताल में ओटी, आईसीयू, ओपीडी और दूसरे कुछ स्थानों पर ​इलेक्ट्रोनिक और प्रिंट मीडिया को बाध्य किया गया है।

आदेश की प्रति।


उनका तर्क है कि इन संवेदनशील स्थानों की फोटोग्राफी कर उसके संबंध में बिना अधिकृत जानकारी के नकारात्मक समाचार प्र​काशित किए जाते हैं। जिससे अस्पताल की छवि पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। दरअसल, पिछले दिनों ईटीवी भारत की ओर से अस्पताल की अव्यवस्थाओं को लेकर खबर प्रसारित की गई थी। एसएमएस में अस्पताल गेट पर मौत का मामला हो या इमरजेंसी में ऑक्सीजन नहीं मिलने से मौत का मामला, इस खबरों पर अस्पताल प्रशासन की ओर से कोई जवाब बनता नजर नहीं आया।


इसके अलावा स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ के खुले में लघुशंका करने की खबर भी प्रसारित की गई। संभव है कि बौखलाए मंत्री जी ने एसएमएस अधीक्षक को निर्देश देकर मीडिया की स्वतंत्रता रोक लगाने का फरमान जारी किया हो। आईसीयू और ओटी जैसे संवेदनशील जगहों पर जाना मीडिया भी उचित नहीं समझता। लेकिन अस्पताल की अव्यवस्थाओं को सामने रखना मीडिया की जिम्मेदारी है। इस पर रोक लगना समाज की आंखों में भी धूल झोंकने के बराबर है।

पढ़ें: जयपुर ब्लास्ट का मास्टरमाइंड इंडियन मुजाहिदीन का आतंकी आरिज 'जुनैद' गिरफ्तार

हालांकि इस पूरे मामले से एसएमएस मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ. यूएस अग्रवाल को जब अवगत कराया गया। तो उन्होंने इस आदेश को रिव्यू करने के निर्देश दिए हैं।

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  सहेली

  गैलरी

  टूरिज़्म

  اردو خبریں

  ଓଡିଆ ନ୍ୟୁଜ

  ગુજરાતી ન્યૂઝ

  MAJOR CITIES