• A
  • A
  • A
सदन में फूटा घनश्याम तिवाड़ी का दर्द, अपने ही पार्टी के सचेतक पर उठाए सवाल

जयपुर। सदन में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सोमवार को बजट पेश कर दिया और बुधवार से उस पर बहस भी शुरू हो गई लेकिन बहस में विभिन्न दलों के सचेतक और नेताओं द्वारा जो सूची आसन को सौंपी गई है सिर्फ वही विधायक बोल सकेंगे।


जिस पर सदन में विधायक घनश्याम तिवाड़ी ने इस व्यवस्था का विरोध करते हुए अपने ही दल के सचेतक और नेता की कार्यशैली पर सवाल उठाए। इसके बाद सदन में सत्तापक्ष और विपक्ष के सदस्यों में तीखी नोंक-झोंक हुई।
इसके कुछ ही देर बाद संसदीय कार्य मंत्री राजेन्द्र राठौड़, उपमुख्य सचेतक मदन राठौड़ और घनश्याम तिवाड़ी ने व्यंग्यात्मक लहजे में एक-दूसरे पर कटाक्ष किया।


यह भी पढ़ें: आज दिन तक एक धेला भी नहीं लिया, कोई साबित कर दे तो जीवनलीला समाप्त कर लूंगा- डॉ. जसवंत यादव

दरअसल तिवाड़ी ने सदन में बजट पर बोलने की व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए कहा कि जिन दलों के सचेतक या नेता से विधायक की नहीं बनती उनका नाम बजट बहस की सूची में शामिल नहीं होता। ऐसे में आसन ही विधायक की अभिव्यक्ति की आजादी की रक्षा करे और नियमों में बदलाव करे।

ऐसे में संसदीय कार्यमंत्री राजेन्द राठौड़ और उपमुख्य सचेतक मदन राठौड़ ने इसका विरोध किया। राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि शायद तिवाड़ी जी को भ्रम है कि उनका नाम सूची में शामिल नहीं है। राठौड़ ने कहा कि सदन नियमों से चलता है और यदि सदस्य नियमों में संशोधन चाहते है तो नियम समिति को प्रस्ताव दें।

यह भी पढ़ें: आहूजा ऑडियो मामला: श्रम मंत्री का पलटवार, कहा- उन्हें साइकेट्रिक की जरूरत

बेनीवाल ने किया तिवाड़ी का समर्थन,कांग्रेस ने ली चुटकी
बजट बहस में बोलने को लेकर तिवाड़ी की उठाई मांग का निर्दलीय विधायक हनुमान बेनीवाल ने भी समर्थन किया। बेनीवाल ने कहा कि आजकल कांग्रेस सदन में विपक्ष की भूमिका ठीक ढंग से नहीं निभा पा रही है ऐसे में बजट बहस की शुरूआत तिवाड़ी से ही की जाए।

इसके बाद कांग्रेस सचेतक गोविन्द्र डोटासरा ने इस पर आपत्ति जताई और कहा कि हम तो प्रयास कर रहे है कि आप भी विपक्ष शामिल हो जाओ।

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  सहेली

  गैलरी

  टूरिज़्म

  MAJOR CITIES