• A
  • A
  • A
किरोड़ीलाल मीणा को कांग्रेस के अंदर की पक्की खबर मिली, भुना रही है पार्टी

चुनाव के मैदान में सत्ता को लेकर भाजपा-कांग्रेस के बीच सियासी संघर्ष दिनोंदिन बढ़ता जा रहा है. वहीं, भाजपा के दिग्गज नेता किरोड़ी लाल मीणा को मिली कांग्रेस की एक खबर ने सियासी उबाल ला दिया है....

किरोड़ी लाल मीणा।


जयपुर . चुनाव के मैदान में जहां भाजपा-कांग्रेस के बीच सियासी घमासान मचा हुआ है. वहीं, भाजपा के दिग्गज नेता और राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा के एक बयान से कांग्रेस के भीतर खलबली मच गई है. मीणा ने कहा है कि कांग्रेस के सूत्रों से पता चला है राहुल गांधी ने तय कर लिया है कि प्रदेश में कांग्रेस के सीएम पद के चेहरे पीसीसी चीफ सचिन पायलट बनेंगे. जबकि, कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत को दिल्ली की राजनीति में रखा जाएगा.
पढ़ेंःहनुमान बेनीवाल 29 को पार्टी की घोषणा तो करेंगे लेकिन पार्टी रजिस्टर्ड कैसे होगी....टाइम तो बचा ही नहीं
किरोड़ी लाल ने आगे कहा है कि हाल में धौलपुर से महुवा तक कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का रोड शो भी इसी संकेत को मजबूती दे रहा है. उन्होंने कहा कि जहां सचिन पायलट के पिता राजेश पायलट का प्रभाव था. उसे मजबूत करने के लिए ही राहुल ने इस रोड शो को किया है. किरोड़ी के इस बयान के बाद से कांग्रेस के भीतर सियासी उबाल आ गया है. क्योंकि, इस बार चुनाव से पहले से ही गहलोत और पायलट के बीच में कुर्सी को लेकर खींचतान जारी है. सीएम के पद को लेकर दोनों नेताओं की तरफ से कई बार बयानबाजी भी हो चुकी है. जिसके बाद पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी नाराजगी भी जता चुके हैं. साथ ही उन्होंने दोनों नेताओं को निर्देश दिया है, कि वे एक साथ रहकर प्रचार-प्रसार करें.

पढ़ेंः राहुल के कार्यक्रम में वसुंधरा के इस खास मंत्री के बेटे के शामिल होने के बाद पार्टी के भीतर चढ़ा पारा
जिसके तहत गहलोत-पायलट संकल्प अभियान के तहत सभी जगह एक साथ बस में सवार होकर जा रहे हैं. वहीं, दोनों नेता अब मीडिया के सामने कह रहे हैं कि कांग्रेस में सीएम की घोषणा पहले नहीं होती है. इसकी घोषणा को लेकर एक निश्चित प्रक्रिया है, जिसे पूरा करते हुए ही सीएम की घोषणा पार्टी हाईकमान की ओर से की जाती है. वहीं, खुद राहुल भी अपनी हर सभा में गहलोत-पायलट की दोस्ती के कसीदे पढ़ रहे हैं. लेकिन, अब किरोड़ी के इस बयान के बाद एक बार फिर सियासी पारा चढ़ता नजर आ रहा है. गौतलब है कि चुनावी साल में सियासी दलों के बीच सत्ता को लेकर जारी संघर्ष के बीच जुबानी हमले भी लगातार हो रहे हैं. चुनाव की तारीख घोषित होने के बाद से ये हमले और तेज होते जा रहे हैं.

CLOSE COMMENT

ADD COMMENT

To read stories offline: Download Eenaduindia app.

SECTIONS:

  होम

  राज्य

  देश

  दुनिया

  कारोबार

  क्राइम

  खेल

  मनोरंजन

  इंद्रधनुष

  गैलरी

  टूरिज़्म

  MAJOR CITIES